Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

बोलो जय जय गणतंत्र दिवस

खिले – खिले चेहरे हैं सभी के।।
आया है गणतंत्र दिवस।।
लहराया तिरंगा लाल किले पर ।
बोलो जय-जय गणतंत्र दिवस।।
खिले- खिले चेहरे——————-।।

तोपों से सलामी तिरंगे को ।
देश के सैनिक दे रहे हैं।
गूंज रहा जयघोष गगन में ।
राष्ट्रगान सभी गा रहे हैं।।
जगा दिया है देशप्रेम को।
बोलो जय – जय गणतंत्र दिवस।।
खिले- खिले चेहरे——————।।

उन शहीदों को भी याद करें।
कुर्बान वतन पर जो हुए।।
निःस्वार्थ अपना सब कुछ जो।
न्यौछावर वतन पर कर गए।।
जिंदाबाद भगतसिंह, चंद्रशेखर की ।
बोलो जय-जय , गणतंत्र दिवस।।
खिले – खिले चेहरे———————–।।

इस दिन शपथ ले हम सभी।
आबाद देश को रखेंगे ।।
जाति – धर्म के झगड़े छोड़।के
मिलजुलकर हम सब रहेंगे।।
रहे अमर हमारा यह वतन ।
बोलो जय-जय गणतंत्र दिवस।।
खिले-खिले चेहरे——————।।

रचनाकार एवं लेखक-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम रंगदारी से भले ही,
तुम रंगदारी से भले ही,
Dr. Man Mohan Krishna
Dear myself,
Dear myself,
पूर्वार्थ
आप आजाद हैं? कहीं आप जानवर तो नहीं हो गए, थोड़े पालतू थोड़े
आप आजाद हैं? कहीं आप जानवर तो नहीं हो गए, थोड़े पालतू थोड़े
Sanjay ' शून्य'
मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )
मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )
VINOD CHAUHAN
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
सार्थक मंथन
सार्थक मंथन
Shyam Sundar Subramanian
रात नहीं आती
रात नहीं आती
Madhuyanka Raj
*महानगर (पाँच दोहे)*
*महानगर (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
manjula chauhan
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
मन कहता है
मन कहता है
Seema gupta,Alwar
"बस्तर के वनवासी"
Dr. Kishan tandon kranti
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कैसे हो हम शामिल, तुम्हारी महफ़िल में
कैसे हो हम शामिल, तुम्हारी महफ़िल में
gurudeenverma198
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
मेरा तितलियों से डरना
मेरा तितलियों से डरना
ruby kumari
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
रामलला
रामलला
Saraswati Bajpai
■ पाठक लुप्त, लेखक शेष। मुग़ालते में आधी आबादी।
■ पाठक लुप्त, लेखक शेष। मुग़ालते में आधी आबादी।
*Author प्रणय प्रभात*
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
2759. *पूर्णिका*
2759. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अभी सत्य की खोज जारी है...
अभी सत्य की खोज जारी है...
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
Phool gufran
Loading...