Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2022 · 1 min read

बोली है अनमोल

सोच समझकर बोलिए, बोली है अनमोल।
मीठे मीठे बोल से , सदा अमृत रस घोल।।

जीवन में भरते नहीं, कटु बोली के घाव।
सोच समझकर बोलिए, तुम बोली के भाव।।

आदर सबका कीजिए, करो नहीं अपमान।
आदर करने से मिले, हमको भी सम्मान।।

मीठी बोली से खुले, बंद ह्रदय के द्वार।
दुश्मन शत्रुता छोड़कर, बन जाते है यार।।

आओ बोले प्रेम से, प्रेम जन्म का सार।
नफरत करने में नहीं, लगे सुखद संसार।।
—- जेपी लववंशी

Language: Hindi
1 Like · 195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
संवेदना मर रही
संवेदना मर रही
Ritu Asooja
3254.*पूर्णिका*
3254.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
I thought you're twist to what I knew about people of modern
I thought you're twist to what I knew about people of modern
Sukoon
प्रेम की पाती
प्रेम की पाती
Awadhesh Singh
कोई शाम तलक,कोई सुबह तलक
कोई शाम तलक,कोई सुबह तलक
Shweta Soni
सच का सौदा
सच का सौदा
अरशद रसूल बदायूंनी
रहस्य-दर्शन
रहस्य-दर्शन
Mahender Singh
माता- पिता
माता- पिता
Dr Archana Gupta
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
कठोर व कोमल
कठोर व कोमल
surenderpal vaidya
मौन के प्रतिमान
मौन के प्रतिमान
Davina Amar Thakral
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
#आंखें_खोलो_अभियान
#आंखें_खोलो_अभियान
*प्रणय प्रभात*
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिन्दू एकता
हिन्दू एकता
विजय कुमार अग्रवाल
Live in Present
Live in Present
Satbir Singh Sidhu
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
Sanjay ' शून्य'
लघुकथा -
लघुकथा - "कनेर के फूल"
Dr Tabassum Jahan
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
Ravi Betulwala
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
Dr. Man Mohan Krishna
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
"प्रतिष्ठा"
Dr. Kishan tandon kranti
राजर्षि अरुण की नई प्रकाशित पुस्तक
राजर्षि अरुण की नई प्रकाशित पुस्तक "धूप के उजाले में" पर एक नजर
Paras Nath Jha
Loading...