Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2023 · 2 min read

बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प

बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा परिवार हमारे पिता चलाते हैं,

आज फादर डे हैं पीता दिवस पिता दिवस है, तो अपने एक ही दिन पिता दिवस नहीं, हर दिन माता पिता दिवस होना चाहिए, हर दिन उन्हें खुश रखना चाहिए अपने माता-पिता को आप वह दिन भी याद करिए जिस दिन हमारे को जब हम छोटे होते थे तो हर एक चीज हर एक चीज जिस जिस चीज की हमारे को जरूरत होती है ना वह कौन लाता था, वह पिता ही लाता था हम किसी दुकान पर जाते थे तो बोलते थे कि पिताजी हमें यह चाहिए चाइए उनके पास कुछ भी ना हो फिर भी जैसे तैसे करके वह चीज हमारे लिए दिलाते थे इसलिए हमें खुश रखने के लिए ताकि यह रोए ना दुखी ना हमारे बच्चे इतना कुछ सोचते थे, हमारे माता-पिता हमारे लिए, खुशनसीब है वो लोग जिनके पास मां-बाप है उनका भी सोचो जिनके पास मां-बाप नहीं होते हर दिन उनके लिए स्पेशल बनाओ हर दिन एक ही दिन माता पिता दिवस नहीं होता है नहीं होता है कि दिन पिता दिवस नहीं होता हर दिन उनको खुशियां देने की कोशिश करो,
हर दिन अपने मां-बाप से प्यार करो और उनको प्यार दो जैसे हमारे हमारे माता पिता हमारे को बचपन में प्यार देते थे हर तरह से खुश कोशिश करो उनको खुश रखने की जिंदगी बार-बार नहीं मिलती जिंदगी में माता-पिता हर किसी को नसीब नहीं होता जिन जिन के पास है वह सोचिए कि भगवान हमारे पास है बोलते हैं कि भगवान खुद नहीं आ सकते तो उन्होंने मां बनाई और श्रीहरि हर किसी के पास नहीं आ सकते तो उन्होंने पालन करने के लिए पिता को बनाया इसलिए हर दिन मां-बाप को खुश रखो प्यार करो किसी चीज के लिए ज्यादा जिद मत करो , जैसे बचपन में हमारे माता-पिता हमें गले लगा कर रखते थे ना वैसे ही आज आप भी हमें गले लगा कर पिता दिवस की शुभकामनाएं दे।

Language: Hindi
1 Like · 313 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"वो ख़तावार है जो ज़ख़्म दिखा दे अपने।
*Author प्रणय प्रभात*
" भूलने में उसे तो ज़माने लगे "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पत्ते बिखरे, टूटी डाली
पत्ते बिखरे, टूटी डाली
Arvind trivedi
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
Anil chobisa
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
Sukoon
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
जीवन उद्देश्य
जीवन उद्देश्य
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
💐अज्ञात के प्रति-108💐
💐अज्ञात के प्रति-108💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
पत्नी-स्तुति
पत्नी-स्तुति
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
शेखर सिंह
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
ruby kumari
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
Vishal babu (vishu)
सुन लो मंगल कामनायें
सुन लो मंगल कामनायें
Buddha Prakash
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
Rakesh Bahanwal
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
ख़्वाब
ख़्वाब
Monika Verma
2294.पूर्णिका
2294.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
पूर्वार्थ
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
VEDANTA PATEL
दीदार
दीदार
Vandna thakur
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
Loading...