Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

बैठते न ठाले

समय सारा किया परिवार के हवाले
लिखें कुछ कैसे कभी बैठते न ठाले।
कभी चाय बनती, बनते परांठे थोड़े
हलवा गाजर का, कभी बनते पकोड़े।
सब्जियां बाज़ार से पड़ती है लानी
आकर फिर पड़ती फ्रिज में जमानी।
पोता कहे दादी मेरा स्वैटर तो बुन दो
बहू कहे अम्मा लो चावल ही बीन दो।
पोती कहे पेपर है, समास समझा दो
थोड़ा समय दादी मुझ पर लगा दो।
बेटा कहे माँ देशी घी हम लेकर आये
लड्डू बेसन के बने, तो मज़ा आ जाये।
पति बोले मक्का की रोटी बनाओ
सरसों का साग भी संग में खिलाओ।
लिखी न कविता, कथा न कोई कहानी
नाती-नातिन कहें, केक बना लो नानी।
समय सारा किया परिवार के हवाले
लिखें कुछ कैसे कभी बैठते न ठाले।

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Comments · 361 Views
You may also like:
तिरंगा
Pakhi Jain
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
*सड़क पर मेला (व्यंग्य)*
Ravi Prakash
कहीं कोई भगवान नहीं है//वियोगगीत
Shiva Awasthi
*महाकाल चालीसा*
Nishant prakhar
साहिल की रेत
Kaur Surinder
खामोशी
Anamika Singh
आस्तीक भाग -छः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला...
Manisha Manjari
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बेशक
shabina. Naaz
कोशिशें अभी बाकी हैं।
Gouri tiwari
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
Shyari
श्याम सिंह बिष्ट
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
!! समय का महत्व !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
'चाँद गगन में'
Godambari Negi
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
उचित मान सम्मान के हक़दार हैं बुज़ुर्ग
Dr fauzia Naseem shad
■ काव्यात्मक विचार
*प्रणय प्रभात*
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
आनी इक दिन मौत है।
Taj Mohammad
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
'अशांत' शेखर
अष्टांग मार्ग गीत
Buddha Prakash
तम भरे मन में उजाला आज करके देख लेना!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
" दर्दनाक सफर "
DrLakshman Jha Parimal
कबीरा...
Sapna K S
Loading...