Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 1 min read

बे-ख़ुद

वक्त की दहलीज़ पर ठहरा हुआ सा एक लम्हा,
हवा में लहराता हुआ सा एक बबूला,
संगे -ए- राह सा ठोकर खाता हुआ,
एहसास -ए- दर्द बना फ़ुगाँ होता हुआ ,
कुदरत के हाथों वो खिलौना सा बनता ,
भरम और हक़ीक़त के बीच डोलता सा रहता ,
हबाब की हस्ती लिए इक मख़लूक़ ,
हद से गुज़र फ़ना होने को मजबूर ,
सराब-ए-आप में खोया अपने आप का वो साया ,
कभी अपनी ख़ुदी को ना पहचान पाया।

185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
🌹पत्नी🌹
🌹पत्नी🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
Ravi Prakash
2349.पूर्णिका
2349.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
लौट कर वक्त
लौट कर वक्त
Dr fauzia Naseem shad
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
Shashi kala vyas
मोदी को सुझाव
मोदी को सुझाव
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
जिन्दगी की शाम
जिन्दगी की शाम
Bodhisatva kastooriya
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
Motivational
Motivational
Mrinal Kumar
ग़ज़ल _ मिले जब भी यारों , तो हँसते रहे हैं,
ग़ज़ल _ मिले जब भी यारों , तो हँसते रहे हैं,
Neelofar Khan
देखिए मायका चाहे अमीर हो या गरीब
देखिए मायका चाहे अमीर हो या गरीब
शेखर सिंह
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
वो इश्क किस काम का
वो इश्क किस काम का
Ram Krishan Rastogi
खोया है हरेक इंसान
खोया है हरेक इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
Taj Mohammad
मंजिल
मंजिल
डॉ. शिव लहरी
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
एक दोहा दो रूप
एक दोहा दो रूप
Suryakant Dwivedi
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
■ मुक्तक।
■ मुक्तक।
*प्रणय प्रभात*
!! होली के दिन !!
!! होली के दिन !!
Chunnu Lal Gupta
दीदार
दीदार
Vandna thakur
बादल छाये,  नील  गगन में
बादल छाये, नील गगन में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उस दर पे कदम मत रखना
उस दर पे कदम मत रखना
gurudeenverma198
Loading...