Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

बेहिसाब सवालों के तूफान।

अरसे बाद वो मिला चेहरे पर झूठी मुस्कान लिए।
अपनी नज़रों में बेहिसाब सवालों के तूफान लिए।।

जो गया था हमको छोड़कर खुश रहने के लिए।
वो दिखा हमें नज़रों में अश्कों का आसमान लिए।।

मुद्दतों बाद वो मिला भी तो मिला किस हाल में।
जिंदगी दिख रही थी बर्बादियों का सामान लिए।।

हमे क्या मालूम था कि वो भी है साजिशों में शामिल।
हम थे जिनकी खातिर हथेली पर अपनी जान लिए।।

अब तक गफलत में जी रहे थे मंजिल कैसे मिलती।
अंधेरी रातों में निकले थे बिना जली मशाल लिए।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
इस धरातल के ताप का नियंत्रण शैवाल,पेड़ पौधे और समन्दर करते ह
इस धरातल के ताप का नियंत्रण शैवाल,पेड़ पौधे और समन्दर करते ह
Rj Anand Prajapati
"औषधि"
Dr. Kishan tandon kranti
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मुझे जगा रही हैं मेरी कविताएं
मुझे जगा रही हैं मेरी कविताएं
Mohan Pandey
2402.पूर्णिका
2402.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
'ਸਾਜਿਸ਼'
'ਸਾਜਿਸ਼'
विनोद सिल्ला
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
जुगनू तेरी यादों की मैं रोशनी सी लाता हूं,
जुगनू तेरी यादों की मैं रोशनी सी लाता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
Manju sagar
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
ज़ब जीवन मे सब कुछ सही चल रहा हो ना
ज़ब जीवन मे सब कुछ सही चल रहा हो ना
शेखर सिंह
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
जश्न आजादी का ....!!!
जश्न आजादी का ....!!!
Kanchan Khanna
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"प्रेम -मिलन '
DrLakshman Jha Parimal
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
किस्सा कुर्सी का - राज करने का
किस्सा कुर्सी का - राज करने का "राज"
Atul "Krishn"
🌸दे मुझे शक्ति🌸
🌸दे मुझे शक्ति🌸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
* विदा हुआ है फागुन *
* विदा हुआ है फागुन *
surenderpal vaidya
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
*अहमब्रह्मास्मि9*
*अहमब्रह्मास्मि9*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कमी नहीं
कमी नहीं
Dr fauzia Naseem shad
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
Dr. Vaishali Verma
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
Phool gufran
आंखों की नशीली बोलियां
आंखों की नशीली बोलियां
Surinder blackpen
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
gurudeenverma198
गम की मुहर
गम की मुहर
हरवंश हृदय
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
Loading...