Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Apr 2023 · 1 min read

बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।

बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
दुनिया ने लोक लाज भी भुलाई।
खुदा का खौफ भी कहां रहा ऐसे में ,
खुद परस्ती ने हर दिल में जगह बनाई ।

2 Likes · 2 Comments · 374 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
आफत की बारिश
आफत की बारिश
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कुछ तो नशा जरूर है उनकी आँखो में,
कुछ तो नशा जरूर है उनकी आँखो में,
Vishal babu (vishu)
ये पांच बातें
ये पांच बातें
Yash mehra
है कौन वो
है कौन वो
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लालच
लालच
Vandna thakur
52 बुद्धों का दिल
52 बुद्धों का दिल
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
अपना-अपना
अपना-अपना "टेलिस्कोप" निकाल कर बैठ जाएं। वर्ष 2047 के गृह-नक
*Author प्रणय प्रभात*
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
डॉ.सीमा अग्रवाल
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
*रखिए एक दिवस सभी, मोबाइल को बंद (कुंडलिया)*
*रखिए एक दिवस सभी, मोबाइल को बंद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विचार सरिता
विचार सरिता
Shyam Sundar Subramanian
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
रात भर नींद भी नहीं आई
रात भर नींद भी नहीं आई
Shweta Soni
💐प्रेम कौतुक-399💐
💐प्रेम कौतुक-399💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिक्षा एवं धर्म
शिक्षा एवं धर्म
Abhineet Mittal
नई रीत विदाई की
नई रीत विदाई की
विजय कुमार अग्रवाल
'एक कप चाय' की कीमत
'एक कप चाय' की कीमत
Karishma Shah
3165.*पूर्णिका*
3165.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भ्रष्टाचार और सरकार
भ्रष्टाचार और सरकार
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
रिश्तों को कभी दौलत की
रिश्तों को कभी दौलत की
rajeev ranjan
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
Dr Shweta sood
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
DrLakshman Jha Parimal
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
The_dk_poetry
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कैसे हो हम शामिल, तुम्हारी महफ़िल में
कैसे हो हम शामिल, तुम्हारी महफ़िल में
gurudeenverma198
मुक्तक
मुक्तक
Rajesh Tiwari
गीत
गीत
Shiva Awasthi
Loading...