Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं

वेवफाओ के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं।
जो दिल में है रंजीशे,उन्हे बाहर कर जाऊं।।

मिलता नही कोई ठिकाना,जहा आकर बताऊं।
अपने आप में ही घुलता हूं,किसे क्या सुनाऊं।।

काटी है जिंदगी गरीबी में अब कहां मैं जाऊं।
चोरी करनी बसकी नही,दौलत कहां से लाऊं।।

ज़ख्म बहुत है दिल में,किस किस को मैं दिखाऊं।
जख़्मों पर नमक छिड़क कर खुद को मैं सताऊं।।

कोई नही है अपना किस पर मैं विश्वास कर पाऊं।
विश्वासघाती मिलेगे बहत से उनकी क्या सुनाऊं।।

प्यार मै भी करता था,किसी से क्या मै छिपाऊं।
दिल में जो बसी थी मेरे,कैसे सबको मैं बताऊं।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

5 Likes · 2 Comments · 366 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
दलित समुदाय।
दलित समुदाय।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"वाकया"
Dr. Kishan tandon kranti
*रिवाज : आठ शेर*
*रिवाज : आठ शेर*
Ravi Prakash
#आलेख-
#आलेख-
*Author प्रणय प्रभात*
They say,
They say, "Being in a relationship distracts you from your c
पूर्वार्थ
दीप की अभिलाषा।
दीप की अभिलाषा।
Kuldeep mishra (KD)
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
Sanjay ' शून्य'
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
Dr MusafiR BaithA
*****हॄदय में राम*****
*****हॄदय में राम*****
Kavita Chouhan
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
Surinder blackpen
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राम काज में निरत निरंतर
राम काज में निरत निरंतर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-421💐
💐प्रेम कौतुक-421💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
"मेरा भोला बाबा"
Dr Meenu Poonia
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मोहता है सबका मन
मोहता है सबका मन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरी आँख वहाँ रोती है
मेरी आँख वहाँ रोती है
Ashok deep
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
******** रुख्सार से यूँ न खेला करे ***********
******** रुख्सार से यूँ न खेला करे ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खुला आसमान
खुला आसमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
करम
करम
Fuzail Sardhanvi
बाबा फ़क़ीर
बाबा फ़क़ीर
Buddha Prakash
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
नव लेखिका
देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरु रुष्टे न कश्चन:।गुरुस्त्राता ग
देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरु रुष्टे न कश्चन:।गुरुस्त्राता ग
Shashi kala vyas
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...