Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

बेड़ियाँ

अपेक्षायें, कुछ इच्छाएं
कामनायें और सपने
सताते हैं
जब क़दम बढ़ाते ही
मान्यताओं के
गड्ढे आ जाते हैं
उठते हुए पांव
रोक दिये जाते हैं
परम्पराओं की रस्सी से
बाँधा दिये जाते हैं
तड़पता है दिल
रात दिन रोते हैं
खोये हुए सपनों के
मिटे चिह्न खोजते हैं,
तर्पण कर दें!
भूला दें!
सदा के लिए…
सीख लें,
ना सिर्फ़ जीना
बल्कि
मरना भी
परम्परा के लिऐ,
सामाजिक रूढ़ियों
और
बेड़ियों के लिये ?????

1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*रावण आया सिया चुराने (कुछ चौपाइयॉं)*
*रावण आया सिया चुराने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
जगदाधार सत्य
जगदाधार सत्य
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गौमाता की व्यथा
गौमाता की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
अधूरा सफ़र
अधूरा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शहीद रामफल मंडल गाथा।
शहीद रामफल मंडल गाथा।
Acharya Rama Nand Mandal
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
" दिल गया है हाथ से "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
हमेशा भरा रहे खुशियों से मन
हमेशा भरा रहे खुशियों से मन
कवि दीपक बवेजा
मैं अशुद्ध बोलता हूं
मैं अशुद्ध बोलता हूं
Keshav kishor Kumar
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
Shekhar Chandra Mitra
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
प्रेम पर्व आया सखी
प्रेम पर्व आया सखी
लक्ष्मी सिंह
#आज_का_सबक़
#आज_का_सबक़
*Author प्रणय प्रभात*
साथ
साथ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"अपने हक के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
"कुछ तो गुना गुना रही हो"
Lohit Tamta
मेरी आरज़ू है ये
मेरी आरज़ू है ये
shabina. Naaz
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD CHAUHAN
साईकिल दिवस
साईकिल दिवस
Neeraj Agarwal
मुझे धरा पर न आने देना
मुझे धरा पर न आने देना
Gouri tiwari
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
Shweta Soni
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...