Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 29, 2016 · 1 min read

बेटी ……….

-: बेटी :-
मेरे आंगन में आकर जब भी चिड़िया चहचहाती है,
मैं रो लेता हूँ मन में, मुझको बेटी याद आती है।

कभी इस शाख पर डेरा कभी उस शाख पर डेरा,
किसी भी शाख पर बैठे सदा ये गुनगुनाती है।

सफ़र की हो थकन या कोई दफ़्तर की परेशानी,
मैं सब-कुछ भूल जाता हूँ, वो जब भी मुस्कुराती है।

टकपते हैँ जब उसकी सीप जैसी आँख़ से मोती
विदा होते समय बेटी मुझे अक्सर रुलाती है।

अगर बेटी हो घर में रोज़ ही त्योहार है समझो,
हमेशा दो घरों के बीच में वह पुल बनाती है।

यही है “आरसी” दौलत, यही है इक अमानत भी,
बुज़ुर्गों की दुआ बनकर ही बेटी घर में आती है।

-आर० सी० शर्मा “आरसी”

1 Comment · 284 Views
You may also like:
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H. Amin
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
हर सिम्त यहाँ...
अश्क चिरैयाकोटी
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
✍️इँसा और परिंदे✍️
"अशांत" शेखर
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
पिता की याद
Meenakshi Nagar
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिया
Anamika Singh
दिल है कि मानता ही नहीं
gurudeenverma198
मातम और सोग है...!
"अशांत" शेखर
Loading...