Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 22, 2017 · 1 min read

बेटी बिना आँगन सूना लगता है

कितना भी बड़ा हो, चन्दा बिना आकाश सूना लगता है
कितने भी फूल हों, बेटी बिना आँगन सूना लगता है

बेटी नहीं है बोझ ये तो होती है गुमान परिवार का
इनका सम्मान बताता क्या है मुकाम सभ्यता का
होने लगे चीर हरण जाने गर्त में वो समाज लगता है
कितने भी फूल हों, बेटी बिना आँगन सूना लगता है

दर्द कोई इनके जितना सह जाए सम्भव नहीं है
अपना घर छोड़ अनजान घर बसाना आसान नहीं है
कलेजा भर आता है जब हाथ बाबुल का फिसलता है
कितने भी फूल हों, बेटी बिना आँगन सूना लगता है

लेकर ही क्या जाती हैं बेटियाँ सोचो इस समाज से
फिर क्यों मार देते हैं लोग बेटियों को लोक लाज से
कोख अपनी उजाड़ते क्यों नहीं माँ का दिल पिघलता है
कितने भी फूल हों, बेटी बिना आँगन सूना लगता है

कितना भी बड़ा हो, चन्दा बिना आकाश सूना लगता है
कितने भी फूल हों, बेटी बिना आँगन सूना लगता है

4412 Views
You may also like:
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
बदलती परम्परा
Anamika Singh
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
ऊपज
Mahender Singh Hans
लड़ते रहो
Vivek Pandey
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
दिल के जख्म कैसे दिखाए आपको
Ram Krishan Rastogi
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
" मां भवानी "
Dr Meenu Poonia
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
"अशांत" शेखर
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
# पिता ...
Chinta netam " मन "
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
✍️शरारत✍️
"अशांत" शेखर
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
फूल की महक
DESH RAJ
वो
Shyam Sundar Subramanian
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H. Amin
Loading...