Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

बेटी बिना आँगन सूना लगता है

कितना भी बड़ा हो, चन्दा बिना आकाश सूना लगता है
कितने भी फूल हों, बेटी बिना आँगन सूना लगता है

बेटी नहीं है बोझ ये तो होती है गुमान परिवार का
इनका सम्मान बताता क्या है मुकाम सभ्यता का
होने लगे चीर हरण जाने गर्त में वो समाज लगता है
कितने भी फूल हों, बेटी बिना आँगन सूना लगता है

दर्द कोई इनके जितना सह जाए सम्भव नहीं है
अपना घर छोड़ अनजान घर बसाना आसान नहीं है
कलेजा भर आता है जब हाथ बाबुल का फिसलता है
कितने भी फूल हों, बेटी बिना आँगन सूना लगता है

लेकर ही क्या जाती हैं बेटियाँ सोचो इस समाज से
फिर क्यों मार देते हैं लोग बेटियों को लोक लाज से
कोख अपनी उजाड़ते क्यों नहीं माँ का दिल पिघलता है
कितने भी फूल हों, बेटी बिना आँगन सूना लगता है

कितना भी बड़ा हो, चन्दा बिना आकाश सूना लगता है
कितने भी फूल हों, बेटी बिना आँगन सूना लगता है

5130 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Can't relate......
Can't relate......
Sukoon
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
इज़ाजत लेकर जो दिल में आए
इज़ाजत लेकर जो दिल में आए
शेखर सिंह
मेरी बेटी
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
वेलेंटाइन डे शारीरिक संबंध बनाने की एक पूर्व नियोजित तिथि है
वेलेंटाइन डे शारीरिक संबंध बनाने की एक पूर्व नियोजित तिथि है
Rj Anand Prajapati
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
Swami Ganganiya
फिर से
फिर से
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रिवायत दिल की
रिवायत दिल की
Neelam Sharma
गरीबों की जिंदगी
गरीबों की जिंदगी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*रामपुर के राजा रामसिंह (नाटक)*
*रामपुर के राजा रामसिंह (नाटक)*
Ravi Prakash
"साहिल"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्द उसे होता है
दर्द उसे होता है
Harminder Kaur
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गीतिका
गीतिका
जगदीश शर्मा सहज
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
Kshma Urmila
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
धरती के भगवान
धरती के भगवान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम नहीं हो
तुम नहीं हो
पूर्वार्थ
सब्जी के दाम
सब्जी के दाम
Sushil Pandey
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
Dr.Khedu Bharti
बेटियां
बेटियां
करन ''केसरा''
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
हिदायत
हिदायत
Dr. Rajeev Jain
ब्रांड. . . .
ब्रांड. . . .
sushil sarna
Loading...