Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

बेटी की चिट्ठी

????
एक बिटिया लिखने बैठी चिट्ठी,
याद आई घर-आँगन की मिट्टी।

माँ की ममता,स्नेहिल-सी गोदी,
पापा की प्यार से भरी थपकी।
दादा – दादी की थी लाड़ली,
भाई-बहन की प्यार भरी झप्पी।
वो सखी-सहेली,स्कूल की छुट्टी,
लड़ना,झगड़ना,हो जाना कट्टी।

एक बिटिया लिखने बैठी चिट्ठी,
याद आई घर-आँगन की मिट्टी।

विदा होकर ससुराल है आयी,
नए रिश्ते,नई पिया की नगरी।
साथ ले आई यादों की गठरी,
सिखा-समझा,संस्कार की पेटी।
एक क्षण में कैसे हो गई बड़ी,
कल थी जो छोटी-सी बच्ची।

एक बिटिया लिखने बैठी चिट्ठी,
याद आई घर आँगन की मिट्टी।

नई-नई दुनिया है स्वप्निल-सी,
आँखें नम आज संग माँ नहीं।
गुड्डा-गुड़िया वहीं कहीं पड़ी,
सामने है जिम्मेदारी खड़ी।
पापा के पलकों में पली बढ़ी,
कितनी थी अपने घर पर जिद्दी।

एक बिटिया लिखने बैठी चिट्ठी,
याद आई घर-आँगन की मिट्टी।
????—लक्ष्मी सिंह

2 Likes · 13766 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
Sanjay ' शून्य'
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहे-मुट्ठी
दोहे-मुट्ठी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भिंडी ने रपट लिखाई (बाल कविता )
भिंडी ने रपट लिखाई (बाल कविता )
Ravi Prakash
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-491💐
💐प्रेम कौतुक-491💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
शेखर सिंह
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
Jitendra Chhonkar
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
Arghyadeep Chakraborty
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
Kailash singh
श्री राम आ गए...!
श्री राम आ गए...!
भवेश
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
झूठ रहा है जीत
झूठ रहा है जीत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अधूरी दास्तान
अधूरी दास्तान
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कुछ लोग बड़े बदतमीज होते हैं,,,
कुछ लोग बड़े बदतमीज होते हैं,,,
विमला महरिया मौज
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
तेरा हासिल
तेरा हासिल
Dr fauzia Naseem shad
अंबेडकर और भगतसिंह
अंबेडकर और भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
"बे-दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...