Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

बेटियां

सच बेटियां सड़क पर चल रही हैं। सोच समझ के साथ पढ़ रही है। बस आधुनिक समय की फैशन समझ रही है। मन भावों में झूठ पाल रही है। माता पिता को बहाने दे रही है। सच अपनी समझदारी ना समझ रही है। सच बच्चों की गलती भूलाई जाती हैं। एक उम्र और समझ गलत हो जाती है। बस जिसने जन्म दिया हमको है। हम न बात उसकी समझ रहे हैं। सच तो बेटियां सड़क पर कट रही है। समाज और सोच सब हम ही तो है। हां नासमझी हम सब जानते है। हां तुम नारी शक्ति सभी मानते हैं। बस सोच और दृढ़ निश्चय होते हैं। सब दोषी सजा तो पा ही जाते है। बस बेटियां खो गई तब हमें सजा है। आओ सोचे कदम उठाते हैं। हम सभी बेटियां सोच समझ बनाते हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उप्र

1 Like · 3 Comments · 399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*बना शहर को गई जलाशय, दो घंटे बरसात (गीत)*
*बना शहर को गई जलाशय, दो घंटे बरसात (गीत)*
Ravi Prakash
जीना सीखा
जीना सीखा
VINOD CHAUHAN
झूठ रहा है जीत
झूठ रहा है जीत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
छिपे दुश्मन
छिपे दुश्मन
Dr. Rajeev Jain
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
*
*"नमामि देवी नर्मदे"*
Shashi kala vyas
चंद तारे
चंद तारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
Sanjay ' शून्य'
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
"" *माँ की ममता* ""
सुनीलानंद महंत
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
हमने तुमको दिल दिया...
हमने तुमको दिल दिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
Raju Gajbhiye
नम आंखे बचपन खोए
नम आंखे बचपन खोए
Neeraj Mishra " नीर "
आखिर कब तक?
आखिर कब तक?
Pratibha Pandey
राधा अष्टमी पर कविता
राधा अष्टमी पर कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
🙅अमोघ-मंत्र🙅
🙅अमोघ-मंत्र🙅
*प्रणय प्रभात*
बरसात
बरसात
Bodhisatva kastooriya
हाल मियां।
हाल मियां।
Acharya Rama Nand Mandal
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
रात का आलम किसने देखा
रात का आलम किसने देखा
कवि दीपक बवेजा
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"बचपन"
Dr. Kishan tandon kranti
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
उफ्फ्फ
उफ्फ्फ
Atul "Krishn"
Loading...