Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 1 min read

बेटियां

कहते हैं, खानदान का ताज होती हैं बेटियां।
फिर क्यूँ अपनों के ही प्यार को मोहताज होती है बेटियां।

नहीं देते हम उन्हें हक़ थोडा सा भी जीने के लिए।
खुली किताब होकर भी राज होती हैं बेटियां।
पर वो कहते हैं ना खानदान का ताज होती हैं बेटियां।।

आँखों में उनके आँसू भर दिए हैं हमने।
सोचते हैं चुप रहेंगी क्योंकि घर की लाज होती हैं बेटियां।
बस झूठ कहते हैं खानदान का ताज होती हैं बेटियां।।

सांस भी नहीं लेने देते उन्हें मार देते हैं गर्भ में।
वो जिनके लिए बेटे रेशमी वस्त्र और दाद में खाज होती हैं बेटियां।
हम बस कहते हैं खानदान का ताज होती हैं बेटियां।।

सदियों से उन्हें जीने ना दिया अब तो उन्हें उड़ने दो।
होंगे बेटे कल के साथी गर जीवन में आज होती हैं बेटियां।
तभी कह पाओगे खानदान का ताज होती हैं बेटियां।
खानदान का ताज होती हैं बेटियां।।

1 Like · 1 Comment · 724 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
हाय गरीबी जुल्म न कर
हाय गरीबी जुल्म न कर
कृष्णकांत गुर्जर
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
#परिहास
#परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"ओट पर्दे की"
Ekta chitrangini
"अवसाद"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सफर में हमसफ़र
सफर में हमसफ़र
Atul "Krishn"
Sometimes he looks me
Sometimes he looks me
Sakshi Tripathi
माँ
माँ
लक्ष्मी सिंह
"रामगढ़ की रानी अवंतीबाई लोधी"
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
इंसानियत अभी जिंदा है
इंसानियत अभी जिंदा है
Sonam Puneet Dubey
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
पूर्वार्थ
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे
खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे
gurudeenverma198
कल पर कोई काम न टालें
कल पर कोई काम न टालें
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हर सांस का कर्ज़ बस
हर सांस का कर्ज़ बस
Dr fauzia Naseem shad
"मां के यादों की लहर"
Krishna Manshi
बँटवारा
बँटवारा
Shriyansh Gupta
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
परछाईयों की भी कद्र करता हूँ
परछाईयों की भी कद्र करता हूँ
VINOD CHAUHAN
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
Loading...