Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 1 min read

बेटियां भ्रूण है

बेटियां भ्रूण हैं
**********
बेटियां
भ्रूण हैं
चौखट हैं
पर्दा हैं
ख़ानदान हैं
इज्जत हैं
दहेज हैं
और
अल्ट्रासाउंड में दिखने वाला धब्बा.

फिर

आकाश में उड़ने वाली कल्पना, सुनीता कौन है ?

बेटियां भ्रूण हैं

आंगन की चहचहाहट है
भाई के रक्षाबंधन की डोर हैं
सुबह शाम पिता की दवाई हैं
मां की जिम्मेदारी
और फुर्सत भी .

बेटियां भ्रूण है
कुम्हार है
तरासती हैं
और
सृजित करती हैं हमे हरपल .
बेटियां भ्रूण है

ए सूरज ,चांद, सितारे और कायनात को अपने में समेटे कोख है
बेटियां भ्रूण हैं
इनसे ही हम हैं
फिर
क्यों बेटियां भ्रूण हैं.

©शैलेंद्र कुमार भाटिया

Language: Hindi
255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
Suryakant Dwivedi
।। अछूत ।।
।। अछूत ।।
साहित्य गौरव
बहुत सहा है दर्द हमने।
बहुत सहा है दर्द हमने।
Taj Mohammad
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
Dr Manju Saini
रिश्ता एक ज़िम्मेदारी
रिश्ता एक ज़िम्मेदारी
Dr fauzia Naseem shad
# महुआ के फूल ......
# महुआ के फूल ......
Chinta netam " मन "
बात ! कुछ ऐसी हुई
बात ! कुछ ऐसी हुई
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
पहले की भारतीय सेना
पहले की भारतीय सेना
Satish Srijan
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ पौधरोपण दिखावे और प्रदर्शन का विषय नहीं।
■ पौधरोपण दिखावे और प्रदर्शन का विषय नहीं।
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-426💐
💐प्रेम कौतुक-426💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3191.*पूर्णिका*
3191.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तीर'गी  तू  बता  रौशनी  कौन है ।
तीर'गी तू बता रौशनी कौन है ।
Neelam Sharma
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
*किस्मत में यार नहीं होता*
*किस्मत में यार नहीं होता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
Shweta Soni
प्रेमचंद के पत्र
प्रेमचंद के पत्र
Ravi Prakash
हर चेहरा है खूबसूरत
हर चेहरा है खूबसूरत
Surinder blackpen
मनोहन
मनोहन
Seema gupta,Alwar
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
हमारी तुम्हारी मुलाकात
हमारी तुम्हारी मुलाकात
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
Loading...