Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2017 · 1 min read

बेटियाँ

=बेटियाँ अच्छा गाती है =
डगर-डगर चली बिटियाँ
गुनगुनाते हुए लोक गीत
जो उसने सीखे थे माँ से
रच-बस चुके थे सांसो में
हर त्योहारों के मीठे गीत
सखिया बन जाती कोरस
स्वर मुखरित हो उठते तो
कोयल कूक हो जाती फीकी
ठहर जाते लोगो के भी पग
कह उठते कितना अच्छा गाती
बेटियां अब कम हो जाने से
हो गये है त्यौहार भी फीके
गीत होने लगे आँगन से गुम
बेटे त्योहारों पर गीत बजाते
सुनने को अब पग कहा रुक पाते
लोक गीतों और बेटियों को
जब सब मिलकर बचायेंगे
सुने आँगन फिर सज जायेंगे
सुर करेंगे हवाओ से दोस्ती
बोल कानो में मिश्री घोल जायेंगे
संजय वर्मा ‘दृष्टि ”
125, शहीद भगत सिंग मार्ग
मनावर जिला -धार(म प्र )

Language: Hindi
219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख़ामोश हर ज़ुबाँ पर
ख़ामोश हर ज़ुबाँ पर
Dr fauzia Naseem shad
अवसर
अवसर
संजय कुमार संजू
मौके पर धोखे मिल जाते ।
मौके पर धोखे मिल जाते ।
Rajesh vyas
#पंचैती
#पंचैती
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"मनुष्यता से.."
Dr. Kishan tandon kranti
न दिखावा खातिर
न दिखावा खातिर
Satish Srijan
"आज की रात "
Pushpraj Anant
* आए राम हैं *
* आए राम हैं *
surenderpal vaidya
I love to vanish like that shooting star.
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
Ram Krishan Rastogi
You do NOT need to take big risks to be successful.
You do NOT need to take big risks to be successful.
पूर्वार्थ
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐प्रेम कौतुक-310💐
💐प्रेम कौतुक-310💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Wo mitti ki aashaye,
Wo mitti ki aashaye,
Sakshi Tripathi
हमनवा
हमनवा
Bodhisatva kastooriya
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सनम की शिकारी नजरें...
सनम की शिकारी नजरें...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
धार में सम्माहित हूं
धार में सम्माहित हूं
AMRESH KUMAR VERMA
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
Buddha Prakash
4- हिन्दी दोहा बिषय- बालक
4- हिन्दी दोहा बिषय- बालक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मै मानव  कहलाता,
मै मानव कहलाता,
कार्तिक नितिन शर्मा
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
🙅कही-अनकही🙅
🙅कही-अनकही🙅
*Author प्रणय प्रभात*
दिव्य ज्ञान~
दिव्य ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मन मन्मथ
मन मन्मथ
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
2767. *पूर्णिका*
2767. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मम्मी की डांट फटकार
मम्मी की डांट फटकार
Ms.Ankit Halke jha
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...