Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2021 · 1 min read

“बेटा-बेटी”

“बेटा-बेटी”
°°°°°°°°°°

चाहे ‘बेटा’ हो या ‘बेटी’
दोनों , ‘माता-पिता’ के;
‘आंखों’ की है, ‘ज्योति’
‘बेटा’, कुल का दीपक;
तो बेटी, घर की रौनक;
‘बेटी’ अगर, ‘ममता’ है;
‘बेटा’ मारक ‘क्षमता’है,
‘बेटी’ हमेशा जननी है,
ये तो ‘मां’ कहलाती है,
पुत्र और पुत्री लाती है,
‘बेटा’ भी तो बालक है;
जो ये भी, पिता बनता,
फिर,ये ‘प्रतिपालक’ है,
बेटा ही, पुत्र कहलाता;
और बेटी सदा ही पुत्री,
मगर ‘पुत्र’ हो या ‘पुत्री’
तब ही ये,बनता प्यारा;
जब भी पुत्र,’सुपुत्र’ हो;
और ‘बेटी’ बने, ‘सुपुत्री’
बेटी ये पराई कहलाती,
पिया के घर जो जाती;
बेटा भी तो बेटी को ही,
ब्याह के, घर को लाता;
निजघर में, बहु बनाता;
दोनों में, न कोई भेद है;
फिर क्यों, कहीं पर भी;
विचारों में, कोई छेद है।
******************

स्वरचित सह मौलिक;
……✍️पंकज ‘कर्ण’
………….कटिहार।।

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 1927 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
#सम_सामयिक
#सम_सामयिक
*Author प्रणय प्रभात*
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
लक्ष्मी सिंह
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
DrLakshman Jha Parimal
"नवाखानी"
Dr. Kishan tandon kranti
हमसे वफ़ा तुम भी तो हो
हमसे वफ़ा तुम भी तो हो
gurudeenverma198
मरीचिका सी जिन्दगी,
मरीचिका सी जिन्दगी,
sushil sarna
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम्हारी वजह से
तुम्हारी वजह से
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आओ सर्दी की बाहों में खो जाएं
आओ सर्दी की बाहों में खो जाएं
नूरफातिमा खातून नूरी
पृष्ठों पर बांँध से
पृष्ठों पर बांँध से
Neelam Sharma
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
ना वह हवा ना पानी है अब
ना वह हवा ना पानी है अब
VINOD CHAUHAN
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
"जुबांँ की बातें "
Yogendra Chaturwedi
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
जय श्री राम
जय श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
सहज है क्या _
सहज है क्या _
Aradhya Raj
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
Love Is The Reason Behind
Love Is The Reason Behind
Manisha Manjari
हाय गरीबी जुल्म न कर
हाय गरीबी जुल्म न कर
कृष्णकांत गुर्जर
3170.*पूर्णिका*
3170.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
दोहा
दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
सच कहूं तो
सच कहूं तो
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
Loading...