Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 24, 2022 · 1 min read

बेजुबान

बेजुबानों को बचाने की गजब साजिश चली ,
देखकर व्यापार मरघट को पसीना आ गया ।

देखते ही देखते तकनीक ऐसी आ गई ,
छेदकर नथुनों को हमको दूध पीना आ गया ।

हो गए हैं बन्द बूचड़खाने जो अवैध थे ,
वैध वाले हंस रहे हैं क्या जमाना आ गया ।

ये औरंगजेब के दुश्मन मोहब्बत गाय से इनको ,
सियासी रंग ऐसा देखकर बछड़ों को रोना आ गया ।

बगावत कर नहीं सकता सियासी भेड़ियों से मैं ,
सूखती गंगा में भी हमको नहाना आ गया ।

~ धीरेन्द्र पांचाल

50 Views
You may also like:
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
पिता
Madhu Sethi
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
मां तेरे आंचल को।
Taj Mohammad
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
बुध्द गीत
Buddha Prakash
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H. Amin
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
""वक्त ""
Ray's Gupta
अराजकता बंद करो ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
【26】**!** हम हिंदी हम हिंदुस्तान **!**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
गर्मी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
✍️✍️याद✍️✍️
"अशांत" शेखर
एक पल में जीना सीख ले बंदे
Dr.sima
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
शिव शम्भु
Anamika Singh
कभी भीड़ में…
Rekha Drolia
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
Loading...