Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।

बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
RJ Anand Prajapati

40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2431.पूर्णिका
2431.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Peace peace
Peace peace
Poonam Sharma
मन
मन
Sûrëkhâ Rãthí
वक़्त का सबक़
वक़्त का सबक़
Shekhar Chandra Mitra
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंहकार
अंहकार
Neeraj Agarwal
"तोल के बोल"
Dr. Kishan tandon kranti
नायाब तोहफा
नायाब तोहफा
Satish Srijan
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
Sonu sugandh
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
Stop getting distracted by things that have nothing to do wi
Stop getting distracted by things that have nothing to do wi
पूर्वार्थ
आपको जीवन में जो कुछ भी मिले उसे सहर्ष स्वीकार करते हुए उसका
आपको जीवन में जो कुछ भी मिले उसे सहर्ष स्वीकार करते हुए उसका
Tarun Singh Pawar
याराना
याराना
Skanda Joshi
"धूप-छाँव" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दूध बन जाता है पानी
दूध बन जाता है पानी
कवि दीपक बवेजा
माफ़ी नहीं होती
माफ़ी नहीं होती
Surinder blackpen
"इस्राइल -गाज़ा युध्य
DrLakshman Jha Parimal
■ अधूरी बात सुनी थी ना...? अब पूरी पढ़ और समझ भी लें अच्छे से
■ अधूरी बात सुनी थी ना...? अब पूरी पढ़ और समझ भी लें अच्छे से
*Author प्रणय प्रभात*
*जरा काबू में रह प्यारी,चटोरी बन न तू रसना (मुक्तक)*
*जरा काबू में रह प्यारी,चटोरी बन न तू रसना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कुछ पल
कुछ पल
Mahender Singh
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
Sanjay ' शून्य'
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
Anil chobisa
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
कितने फ़र्ज़?
कितने फ़र्ज़?
Shaily
मैं
मैं
Seema gupta,Alwar
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
लक्ष्मी सिंह
बीते कल की रील
बीते कल की रील
Sandeep Pande
दिल में एहसास
दिल में एहसास
Dr fauzia Naseem shad
दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में
दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में
gurudeenverma198
टन टन बजेगी घंटी
टन टन बजेगी घंटी
SHAMA PARVEEN
Loading...