Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2023 · 1 min read

बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित

बृद्धाश्रम विचार गलत नहीं है, यदि संस्कृति और वंश को विकसित होता देख, एक कर्मयोद्धा एक नए समुदाय को सहर्ष स्वीकार करे। अतः मां बाप की खुश और जीवंतता को केंद्र के रखकर ही इस विचार पर विचार करें। वृद्धाश्रम, संयासाश्रम के विकसित रूप का विचार।

1 Like · 1 Comment · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कलाकार
कलाकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज के दिन छोटी सी पिंकू, मेरे घर में आई
आज के दिन छोटी सी पिंकू, मेरे घर में आई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मन की गांठ
मन की गांठ
Sangeeta Beniwal
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
Manju sagar
डिप्रेशन में आकर अपने जीवन में हार मानने वाले को एक बार इस प
डिप्रेशन में आकर अपने जीवन में हार मानने वाले को एक बार इस प
पूर्वार्थ
संत कबीर
संत कबीर
Lekh Raj Chauhan
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
दर्द
दर्द
Satish Srijan
पत्थर की अभिलाषा
पत्थर की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
SUNIL kumar
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
दिखावा
दिखावा
Swami Ganganiya
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
Badalo ki chirti hui meri khahish
Badalo ki chirti hui meri khahish
Sakshi Tripathi
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
सत्य कुमार प्रेमी
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
Shashi kala vyas
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
महापुरुषों की सीख
महापुरुषों की सीख
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
"फोटोग्राफी"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
शिव प्रताप लोधी
#तस्वीर_पर_शेर:--
#तस्वीर_पर_शेर:--
*Author प्रणय प्रभात*
अपने हाथ,
अपने हाथ,
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
पथ नहीं होता सरल
पथ नहीं होता सरल
surenderpal vaidya
शुरुवात जरूरी है...!!
शुरुवात जरूरी है...!!
Shyam Pandey
Loading...