Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2016 · 1 min read

बुजुर्गो को अकेला न छोड़ो यारों

ज़ख्मो को खुला न छोडो यारों
हौसलों को जरा न छोडो यारों
***********************
मिलेगी ख़ुशी दुआओं से उनकी
बुजुर्गों को अकेला न छोडो यारों
************************
कपिल कुमार
11/11/2016

Language: Hindi
177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
rekha mohan
*होली पर बनिए सदा, महामूर्ख सम्राट (कुंडलिया)*
*होली पर बनिए सदा, महामूर्ख सम्राट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कुछ समय पहले तक
कुछ समय पहले तक
*Author प्रणय प्रभात*
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
नन्ही भव्या
नन्ही भव्या
Shyam kumar kolare
मेरा प्रेम पत्र
मेरा प्रेम पत्र
डी. के. निवातिया
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
देख रहा था पीछे मुड़कर
देख रहा था पीछे मुड़कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पाहन भी भगवान
पाहन भी भगवान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Jindagi ko dhabba banaa dalti hai
Jindagi ko dhabba banaa dalti hai
Dr.sima
प्रेम मे धोखा।
प्रेम मे धोखा।
Acharya Rama Nand Mandal
किंकर्तव्यविमुढ़
किंकर्तव्यविमुढ़
पूनम झा 'प्रथमा'
रुचि पूर्ण कार्य
रुचि पूर्ण कार्य
लक्ष्मी सिंह
"मैं तेरी शरण में आई हूँ"
Shashi kala vyas
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
Rj Anand Prajapati
💐प्रेम कौतुक-172💐
💐प्रेम कौतुक-172💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
23/185.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/185.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वक़्त बुरा यूँ बीत रहा है / उर में विरहा गीत रहा है
वक़्त बुरा यूँ बीत रहा है / उर में विरहा गीत रहा है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हिंदी
हिंदी
Satish Srijan
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
विमला महरिया मौज
मां
मां
Sanjay ' शून्य'
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
शायरी
शायरी
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
Naushaba Suriya
माँ
माँ
Anju
पर्यावरण
पर्यावरण
Manu Vashistha
Loading...