Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 2 min read

*बुखार ही तो है (हास्य व्यंग्य)*

बुखार ही तो है (हास्य व्यंग्य)
________________________
पिछले पचास वर्ष में बुखार के अनेक प्रकार प्रचलन में आ गए हैं। कुछ बुखार के प्रकार तो नाम से ही इतने भयंकर जान पड़ते हैं कि सुनकर डर लगने लगता है। लेकिन फिर भी कुल मिलाकर बुखार को कोई गंभीरता से नहीं लेता।
एक बार एक सज्जन से हमने कहा -“हमें बुखार आ गया है।”
सुनते ही उन सज्जन ने बहुत सामान्य भाव से उत्तर दिया-” बुखार हमें भी आया था। पॉंच -छह दिन में ठीक हो गया। आता रहता है। ठीक होता रहता है। बुखार को गंभीरता से नहीं लेना चाहिए।”
हमने कहा “हमारा बुखार वह वाला बुखार नहीं है, जो सबको आता है।”
वह बोले “बुखार कोई भी हो, उसकी प्रजाति तो बुखार ही रहेगी। ऐसा या वैसा चाहे हो जैसा, लेकिन बुखार को बुखार ही कहा जाएगा।”
जिसको बुखार आता है, वह अपने बुखार को सबसे अलग मानते हुए सबको समझाना चाहता है। लेकिन असमर्थ रहता है। हॉं, जब विशेष प्रकार के बुखार वाले दस-बीस लोग किसी पार्क में जमा होते हैं; तब वह एक दूसरे की मनोदशा को सही प्रकार से समझ पाते हैं। एक जना कहता है कि उसके बुखार को डेढ़ महीना हो गया। दूसरा कहता है दो महीने हो गए। अभी तक जोड़ों में दर्द है। घुटने दुखते हैं, पैरों में सूजन है, कंधे जकड़े हुए हैं। पूरा शरीर कष्ट देता है। तब जाकर समान अनुभूति के आधार पर वे दस-बीस लोग एक दूसरे के बुखार को सही प्रकार समझ पाते हैं और उनकी सहानुभूति एक दूसरे के प्रति उत्पन्न हो पाती है। वह आपस में चर्चा करते हैं कि बुखार जानलेवा था। बस भगवान की कृपा से बच गए। उनकी अनुभूति को केवल उनके प्रकार के बुखार वाले लोग ही समझ पाते हैं।
बाकी दुनिया बुखार के महत्व को क्या जाने ! उसे तो हृदय आघात, मस्तिष्क आघात और डायलिसिस की दुनिया से बाहर निकल कर किसी बड़ी बीमारी को जॉंचने-परखने की फुर्सत ही कहां मिली है ! हम भले ही कहें कि हमारे बुखार का प्रकार कुछ अलग है, लेकिन वह यही कहते हैं कि गंभीर रोगों की जो श्रेणी होती है, उसमें आपका बुखार कभी भी शामिल नहीं किया जा सकता। अतः आपको गंभीरता से कोई कैसे ले सकता है ?
जिसको विशेष प्रकार का बुखार आता है, वह बेचारा चकनाचूर हो जाता है लेकिन फिर भी दुनिया तो यही कहती है:- “चलो कोई बात नहीं, बुखार ही तो आया है”
————————————
लेखक: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997 615 451

149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
Dr. Arun Kumar Shastri
Dr. Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
कुंती कान्हा से कहा,
कुंती कान्हा से कहा,
Satish Srijan
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
कवि दीपक बवेजा
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
पूर्वार्थ
तिरंगा
तिरंगा
Dr Archana Gupta
Ye sham uski yad me gujarti nahi,
Ye sham uski yad me gujarti nahi,
Sakshi Tripathi
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
कौन गया किसको पता ,
कौन गया किसको पता ,
sushil sarna
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
Shashi kala vyas
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
Amit Pandey
.......अधूरी........
.......अधूरी........
Naushaba Suriya
3182.*पूर्णिका*
3182.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
हम कितने आजाद
हम कितने आजाद
लक्ष्मी सिंह
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
गलत चुनाव से
गलत चुनाव से
Dr Manju Saini
मुकाम
मुकाम
Swami Ganganiya
■ इन दिनों...
■ इन दिनों...
*Author प्रणय प्रभात*
"यात्रा संस्मरण"
Dr. Kishan tandon kranti
सोच
सोच
Srishty Bansal
जो बातें अनुकूल नहीं थीं
जो बातें अनुकूल नहीं थीं
Suryakant Dwivedi
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
*सफल कौवा 【बाल कविता】*
*सफल कौवा 【बाल कविता】*
Ravi Prakash
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
manjula chauhan
अंधा इश्क
अंधा इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...