Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2023 · 1 min read

बुंदेली_दोहा बिषय- गरी (#शनारियल)

बुंदेली दोहा बिषय- गरी (नारियल)

1
#राना फौरे नारियल , निकरी गरी चढ़ात |
फिर परसादी बाँटतइ , सबरै मुड़ी झुकात ||

2
गरी मिलत मेवा बनें , नैंगचार जब हौय |
औली बिटियाँ की भरत , #राना वर की सौय ||

3
जीखौं कात किनायनौ , #राना गरी मिलात |
डारत हैं मिष्ठान में , स्वाद अलग से आत ||

4
तेल गरी कौ चीकनौं , #राना खूब लगात |
चिकटत नइयाँ बार है , साँसी बात बतात ||

5
धागा की निसरी मिलै , #राना दानेदार |
गरी मिला कै खाव जू , बढ़े बदन कौ भार ||

( धागा डालकर एक निसरी बनाई जाती है , जो स्वाद में भी कुछ अलग होती है )
6
#राना चिकनइ तन मिलै , गरी खात जौ लोग |
साठ मिनिट में दूर हौ , कंडियाइ कौ रोग ||
***दिनांक-7-1-2023
(कंडियाइ = लघुशंका में जलन होना इत्यादि )
***
© राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक- “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
शिर्डी के साईं बाबा
शिर्डी के साईं बाबा
Sidhartha Mishra
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
इस जीवन के मधुर क्षणों का
इस जीवन के मधुर क्षणों का
Shweta Soni
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है, अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है, अभी तो जिंदगी का सार बाकी है।
Vipin Singh
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
विकास शुक्ल
हे अल्लाह मेरे परवरदिगार
हे अल्लाह मेरे परवरदिगार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*ई-रिक्शा तो हो रही, नाहक ही बदनाम (छह दोहे)*
*ई-रिक्शा तो हो रही, नाहक ही बदनाम (छह दोहे)*
Ravi Prakash
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
परिवार का सत्यानाश
परिवार का सत्यानाश
पूर्वार्थ
*तन मिट्टी का पुतला,मन शीतल दर्पण है*
*तन मिट्टी का पुतला,मन शीतल दर्पण है*
sudhir kumar
2642.पूर्णिका
2642.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
मेरा सपना
मेरा सपना
Adha Deshwal
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
VINOD CHAUHAN
विषय – मौन
विषय – मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझे दूसरे के अखाड़े में
मुझे दूसरे के अखाड़े में
*प्रणय प्रभात*
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी
gurudeenverma198
प्यासा के हुनर
प्यासा के हुनर
Vijay kumar Pandey
" जिन्दगी के पल"
Yogendra Chaturwedi
NEEL PADAM
NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक मुक्तक
एक मुक्तक
सतीश तिवारी 'सरस'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
शेखर सिंह
"सेहत का राज"
Dr. Kishan tandon kranti
जब एक ज़िंदगी
जब एक ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
Shyam Sundar Subramanian
Loading...