Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

बीन अधीन फणीश।

१)
झूमे नाचे बीन पर,बीन अधीन फणीश।
भाता महुअर व्याल क्यों,सोचत उरग महीश।।
सोचत उरग महीश,सपेरा परम चितेरा।
पोषण साधन उभय,यही जन्मों का फेरा।।
एकत्व साधे काज,भँवर कर्मों का घूमें।
साधे सहभाग सु-काज,सभी नाचे झूमें।।
नीलम शर्मा ✍️

1 Like · 110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी ना जाने कितने
जिंदगी ना जाने कितने
Ragini Kumari
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
तस्वीर!
तस्वीर!
कविता झा ‘गीत’
दिलरुबा जे रहे
दिलरुबा जे रहे
Shekhar Chandra Mitra
*जाति मुक्ति रचना प्रतियोगिता 28 जनवरी 2007*
*जाति मुक्ति रचना प्रतियोगिता 28 जनवरी 2007*
Ravi Prakash
मै मानव  कहलाता,
मै मानव कहलाता,
कार्तिक नितिन शर्मा
हिन्दी दोहा बिषय-
हिन्दी दोहा बिषय- "घुटन"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पतंग
पतंग
अलका 'भारती'
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
सुन्दर तन तब जानिये,
सुन्दर तन तब जानिये,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
Ansh Srivastava
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
Swati
2262.
2262.
Dr.Khedu Bharti
😊गज़ब के लोग😊
😊गज़ब के लोग😊
*Author प्रणय प्रभात*
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
गुप्तरत्न
ग़ज़ल/नज़्म - मुझे दुश्मनों की गलियों में रहना पसन्द आता है
ग़ज़ल/नज़्म - मुझे दुश्मनों की गलियों में रहना पसन्द आता है
अनिल कुमार
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
Seema gupta,Alwar
How do you want to be loved?
How do you want to be loved?
पूर्वार्थ
गज़ल (इंसानियत)
गज़ल (इंसानियत)
umesh mehra
*Dr Arun Kumar shastri*
*Dr Arun Kumar shastri*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
!!!! सबसे न्यारा पनियारा !!!!
!!!! सबसे न्यारा पनियारा !!!!
जगदीश लववंशी
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
Anand Kumar
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*वह बिटिया थी*
*वह बिटिया थी*
Mukta Rashmi
कैसे कह दें?
कैसे कह दें?
Dr. Kishan tandon kranti
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बावरी
बावरी
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
ॐ
Prakash Chandra
मां ब्रह्मचारिणी
मां ब्रह्मचारिणी
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...