Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2017 · 1 min read

** बीता हुआ समय **

बीता हुआ समय
लौटकर नहीं आता
उसकी क़ीमत
आंकना
बड़ा मुश्किल
होता है
लेकिन हम
लौटकर
फिर-फिर
आते रहेंगे
तुम्हारी
जिंदगी में यूं
एक ख्वाब
की तरह
जो सोने ना देंगे
तुमको रात दिन
हमारे ही ख्याल
तुमको जगायेंगे
यूँ रात में सितारों
की तरह और
दिन में तपायेंगे
सूरज की तरह
ऐ प्रियतम समझो
वक्त को ये दुबारा
लौटकर न आयेगा
ये समय जो
हमारा तुम्हारा
फिर लौटकर
ना आयेगा ।।
?मधुप बैरागी

Language: Hindi
1 Like · 358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
स्वार्थी नेता
स्वार्थी नेता
पंकज कुमार कर्ण
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
Pratibha Pandey
कड़वा सच
कड़वा सच
Jogendar singh
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
पुरुष_विशेष
पुरुष_विशेष
पूर्वार्थ
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सोच कर हमने
सोच कर हमने
Dr fauzia Naseem shad
समझ
समझ
अखिलेश 'अखिल'
सच तो रंग होते हैं।
सच तो रंग होते हैं।
Neeraj Agarwal
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
"रातरानी"
Ekta chitrangini
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
Rj Anand Prajapati
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
जिस्मानी इश्क
जिस्मानी इश्क
Sanjay ' शून्य'
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
2510.पूर्णिका
2510.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विचार, संस्कार और रस-4
विचार, संस्कार और रस-4
कवि रमेशराज
कर लो चाहे जो जतन, नहीं गलेगी दाल
कर लो चाहे जो जतन, नहीं गलेगी दाल
Ravi Prakash
उल्लाला छंद विधान (चन्द्रमणि छन्द) सउदाहरण
उल्लाला छंद विधान (चन्द्रमणि छन्द) सउदाहरण
Subhash Singhai
पायल
पायल
Dinesh Kumar Gangwar
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
Phool gufran
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
छल
छल
Aman Kumar Holy
मजदूर
मजदूर
Namita Gupta
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
समय और स्त्री
समय और स्त्री
Madhavi Srivastava
मेरे प्रेम पत्र 3
मेरे प्रेम पत्र 3
विजय कुमार नामदेव
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...