Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

बीज और बच्चे

✍️बीज और बच्चे __

बीज और बच्चे
होते हैं एक जैसे
जिनमें छुपी हैं
अनंत संभावनाएं
सब जानते हैं
फिर भी
मातापिता कहां मानते हैं
बेटियों को रोपते हैं
धान की तरह
और बेटों को भी
जो बन सकता था
विशाल वट वृक्ष
बोनसाई बना कर छोड़ते हैं
बच्चे कोई बीज नहीं हैं
मत करिए
उन पर अपनी चाहतों के प्रयोग
मत लादिए उन पर अपनी
ख्वाहिशों के बोझ
सह नहीं पाएंगे
और आपके अकुशल
तरीकों से
ये नन्हे फूल (बच्चे)
पेड़ बनने से पहले ही मुरझा जाएंगे
___ मनु वाशिष्ठ, कोटा जंक्शन राजस्थान

Language: Hindi
1 Like · 368 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
नव वर्ष मंगलमय हो
नव वर्ष मंगलमय हो
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Good morning 🌅🌄
Good morning 🌅🌄
Sanjay ' शून्य'
जीवन का इतना
जीवन का इतना
Dr fauzia Naseem shad
*दादाजी (बाल कविता)*
*दादाजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कोई क्या करे
कोई क्या करे
Davina Amar Thakral
फ़ितरत
फ़ितरत
Dr.Priya Soni Khare
सत्य
सत्य
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
कम्बखत वक्त
कम्बखत वक्त
Aman Sinha
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
गुरूर चाँद का
गुरूर चाँद का
Satish Srijan
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
عيشُ عشرت کے مکاں
عيشُ عشرت کے مکاں
अरशद रसूल बदायूंनी
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
2534.पूर्णिका
2534.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
परिंदों का भी आशियां ले लिया...
परिंदों का भी आशियां ले लिया...
Shweta Soni
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
पीठ के नीचे. . . .
पीठ के नीचे. . . .
sushil sarna
दरारें छुपाने में नाकाम
दरारें छुपाने में नाकाम
*प्रणय प्रभात*
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
Rituraj shivem verma
"जरा सुनिए तो"
Dr. Kishan tandon kranti
शीर्षक - घुटन
शीर्षक - घुटन
Neeraj Agarwal
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
पतंग*
पतंग*
Madhu Shah
यूं गुम हो गई वो मेरे सामने रहकर भी,
यूं गुम हो गई वो मेरे सामने रहकर भी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...