Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2022 · 1 min read

बिल्ले राम

बिल्ली से शादी करने को,
बिल्ले राम बने जब दूल्हा।
सोच रहे थे मन ही मन में,
बिल्ली करेगी चौका-चूल्हा।
दुल्हन बन बिल्ली घर आई,
खाती जी भर दूध – मलाई।
दिन भर करती वो आराम,
उसे न भाता घर का काम।
बिल्ले राम उसे समझाये,
बिल्ली गुस्से से भर गुर्राये।
कहती जो है काम कराना,
ढूँढ के तुम नौकरानी लाना।
बिल्ले राम मन में पछताये,
बिल्ली क्यों ब्याह के लाये?
अकेले घर – घर मँडराते थे,
चूहे पकड़ – पकड़ खाते थे।

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०).
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)
दिनांक :- २५/०५/२०२१.

2 Comments · 794 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
*रिमझिम-रिमझिम बूॅंदें बरसीं, गाते मेघ-मल्हार (गीत)*
*रिमझिम-रिमझिम बूॅंदें बरसीं, गाते मेघ-मल्हार (गीत)*
Ravi Prakash
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
2968.*पूर्णिका*
2968.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
#नज़्म / ■ दिल का रिश्ता
#नज़्म / ■ दिल का रिश्ता
*Author प्रणय प्रभात*
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
gurudeenverma198
हालात ए वक्त से
हालात ए वक्त से
Dr fauzia Naseem shad
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
सतरंगी इंद्रधनुष
सतरंगी इंद्रधनुष
Neeraj Agarwal
कविता
कविता
Rambali Mishra
"मुझे पता है"
Dr. Kishan tandon kranti
Unlocking the Potential of the LK99 Superconductor: Investigating its Zero Resistance and Breakthrough Application Advantages
Unlocking the Potential of the LK99 Superconductor: Investigating its Zero Resistance and Breakthrough Application Advantages
Shyam Sundar Subramanian
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
तय
तय
Ajay Mishra
'विडम्बना'
'विडम्बना'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
रेखा कापसे
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
Rekha khichi
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
Kumar lalit
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
VINOD CHAUHAN
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
कविता
कविता
Sushila joshi
विश्व गुरु भारत का तिरंगा, विश्व पटल लहराएगा।
विश्व गुरु भारत का तिरंगा, विश्व पटल लहराएगा।
Neelam Sharma
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
कवि रमेशराज
हर सुबह जन्म लेकर,रात को खत्म हो जाती हूं
हर सुबह जन्म लेकर,रात को खत्म हो जाती हूं
Pramila sultan
अंत में पैसा केवल
अंत में पैसा केवल
Aarti sirsat
Loading...