Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2024 · 1 min read

बिल्कुल नहीं हूँ मैं

लगता है इस जहान में बिलकुल नहीं हूँ मैं
या फिर तुम्हारे ध्यान में बिलकुल नहीं हूँ मैं

घर में कोई नहीं जो मुझे अपना कह सके
मेरे ही ख़ानदान में बिल्कुल नहीं हूँ मैं

मेरा सफर तो अपनी ही गहराइयों में है
ऊँची किसी उड़ान में बिल्कुल नहीं हूँ मैं

वो तीर हूँ कि जिसके निशाने पे मैं ही हूँ
उस पर सितम कमान में बिल्कुल नहीं हूँ मैं

बस एक तेरे होने का है मुझको अब यक़ीन
बाक़ी किसी गुमान में बिल्कुल नहीं हूँ मैं

अब चाहो तो गले से लगा सकते हो मुझे
अब अपने दरमियान में बिलकुल नहीं हूँ मैं
~Aadarsh Dubey

Lagta hei is jahan me bilkull nahin hun main
Ya phir tumhare dhyan me bilkull nahin hun main

Ghar me koyi nahin jo mujhe apna kah sakey
Mere hi khandaan me bilkull nahin hun main

Mera safar to apni hi gahraiyon me hei
Unchi kisi udan me bilkulll nahin hun main

Wo teer hun ki jiske nishane pe main hi hun
Us par sitam kaman me bilkull nahin hun main

bas eik tere hone ka hei mujhko ab yaqeen
Baqi kisi guman me bilkull nahin hun main

ab chaho to gale se laga sakte ho mujhe
Ab apne darmiyan me bilkull nahin hun main
~Aadarsh Dubey

Language: Hindi
1 Like · 84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
Dr Shweta sood
नव वर्ष मंगलमय हो
नव वर्ष मंगलमय हो
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"स्वामी विवेकानंद"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सहजता
सहजता
Sanjay ' शून्य'
*जीता हमने चंद्रमा, खोज चल रही नित्य (कुंडलिया )*
*जीता हमने चंद्रमा, खोज चल रही नित्य (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
~~बस यूँ ही~~
~~बस यूँ ही~~
Dr Manju Saini
क्यों पड़ी है गांठ, आओ खोल दें।
क्यों पड़ी है गांठ, आओ खोल दें।
surenderpal vaidya
आखिरी ख्वाहिश
आखिरी ख्वाहिश
Surinder blackpen
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
अपनी नज़र में खुद
अपनी नज़र में खुद
Dr fauzia Naseem shad
अनंतनाग में परचम फहरा गए
अनंतनाग में परचम फहरा गए
Harminder Kaur
कहार
कहार
Mahendra singh kiroula
लाख कोशिश की थी अपने
लाख कोशिश की थी अपने
'अशांत' शेखर
*हूँ कौन मैं*
*हूँ कौन मैं*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
💐प्रेम कौतुक-520💐
💐प्रेम कौतुक-520💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
शेखर सिंह
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
gurudeenverma198
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
SURYA PRAKASH SHARMA
प्यार ~ व्यापार
प्यार ~ व्यापार
The_dk_poetry
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
Taj Mohammad
" तेरा एहसान "
Dr Meenu Poonia
चौबीस घन्टे साथ में
चौबीस घन्टे साथ में
Satish Srijan
साथ चली किसके भला,
साथ चली किसके भला,
sushil sarna
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...