Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही

बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
उनको शक्ति के कहने पे आना पड़ा
भांग पीकर कभी रहते अलमस्त थे
गोपिका बनके गोकुल में आना पड़ा
प्रेम के गीत जिनने ना गाए कभी
जोगिया बन के डमरू बजाना पड़ा
भक्ति की भावना का यूं गुणगान हो
शिव को हनुमान का रूप धरना पड़ा
उनको पे धरती आना नही था मगर
राम को श्याम का रूप धरना पड़ा
जिसको इच्छा की मृत्यु का वरदान था
सेज बाणों की सैया पे रोना पडा
लोभ लालच उर नारी ना होती अगर
जिसके कारण था रावण को मरना पड़ा
खुद भी सुधरो सुधारो सभी लोग को
कामी क्रोधी को दुनिया से मरना पड़ा
कृष्णकांत गुर्जर

618 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“जिंदगी की राह ”
“जिंदगी की राह ”
Yogendra Chaturwedi
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
" ज़ेल नईखे सरल "
Chunnu Lal Gupta
बड़ा ही अजीब है
बड़ा ही अजीब है
Atul "Krishn"
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
यादों के बादल
यादों के बादल
singh kunwar sarvendra vikram
कितनी यादों को
कितनी यादों को
Dr fauzia Naseem shad
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हीं तुम हो.......!
तुम्हीं तुम हो.......!
Awadhesh Kumar Singh
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुक्ति का दे दो दान
मुक्ति का दे दो दान
Samar babu
💐अज्ञात के प्रति-85💐
💐अज्ञात के प्रति-85💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हाँ मैं नारी हूँ
हाँ मैं नारी हूँ
Surya Barman
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
Jitendra Chhonkar
जब से मेरी आशिकी,
जब से मेरी आशिकी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मसला
मसला
Dr. Kishan tandon kranti
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
चंदा मामा सुनो ना मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो ना मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
शराबी
शराबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
Loading...