Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

बिना दूरी तय किये हुए कही दूर आप नहीं पहुंच सकते

कभी अपनों से दूर जाना ही होता है,
अपने आप को आगे बढ़ाना ही होता है,
खुद के लिए कुछ करना है,
तो खुद के लिए लड़ना है,
घर में रह कर एक पौधा कभी पेड़ नहीं बन सकता,
जब उसको बहार लगाओगे,
तभी वो पेड़ बनेगा,
अगर दूरी बर्दाश्त नहीं है,
आगे केसे बढ़ोगे,
और खुद के लिए खड़े हो,
इतना कैसे पढोगे,
कुछ करना है,
तो दूर जाना ही होगा,
खुद के लिए लड़ना है,
तो
सब भूलकर आगे बढ़ना ही होगा|

4 Likes · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल
दिल
Dr Archana Gupta
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
Anand Kumar
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जनमदिन तुम्हारा !!
जनमदिन तुम्हारा !!
Dhriti Mishra
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
VINOD CHAUHAN
ओ पंछी रे
ओ पंछी रे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
इस उजले तन को कितने घिस रगड़ के धोते हैं लोग ।
इस उजले तन को कितने घिस रगड़ के धोते हैं लोग ।
Lakhan Yadav
सुनले पुकार मैया
सुनले पुकार मैया
Basant Bhagawan Roy
*मेरे दिल में आ जाना*
*मेरे दिल में आ जाना*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष कविता:-
श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष कविता:-
*प्रणय प्रभात*
खेल और भावना
खेल और भावना
Mahender Singh
3358.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3358.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
"नकल"
Dr. Kishan tandon kranti
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हाथ कंगन को आरसी क्या
हाथ कंगन को आरसी क्या
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
शेखर सिंह
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
गुमनाम 'बाबा'
जस गीत
जस गीत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मां कृपा दृष्टि कर दे
मां कृपा दृष्टि कर दे
Seema gupta,Alwar
मेरा आसमां 🥰
मेरा आसमां 🥰
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐसा क्यों होता है..?
ऐसा क्यों होता है..?
Dr Manju Saini
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
*होली*
*होली*
Dr. Priya Gupta
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
Atul "Krishn"
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
करते बर्बादी दिखे , भोजन की हर रोज (कुंडलिया)
करते बर्बादी दिखे , भोजन की हर रोज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...