Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

बिगड़ता यहां परिवार देखिए……..

बिगड़ता यहां परिवार देखिए, बिगड़ता यहां संस्कार देखिए।
बिगड़ता यहां बचपन देखिए, बिगड़ता यहां बड़प्पन देखिए।।
बिगड़ता यहां आचार देखिए, बिगड़ता यहां व्यवहार देखिये।
बिगड़ता यहां मिलाप देखिए, बिगड़ता यहां पोशाक देखिए।।
बिगड़ता परिवार देखिये……….

बिगड़ता बेटा तकरार देखिए ,बिगड़ता बुजुर्गों की दरकार देखिए।
बिगड़ता प्यार देखिए, बिगड़ता झूठों की झूठी सरकार देखिए।।
बिगड़ता यहां सदाचार देखिए, बिगड़ता यहां पर व्यापार देखिए।
बिगड़ता यहां बोल देखिए, बिगड़ता यहां सब मोल -तोल देखिए।।
बिगड़ता परिवार देखिये……….

बिगड़ता दुनिया का रंग देखिए , बिगड़ता दुनियां संग देखिए।
बिगड़ता इंसान का मान देखिए ,बिगड़ता भरा संसार देखिए।।
बिगड़ता मेल -मिलाप देखिए, बिगड़ता माला का जाप देखिए।
बिगड़ता यहां पर कर्म देखिए, बिगड़ता यहां पर धर्म देखिए।।
बिगड़ता परिवार देखिये…………

बिगड़ता यहां पर अमीर देखिए, बिगड़ता यहां पर जमीर देखिए।
बिगड़ता यहां पर पीर देखिए, बिगड़ता यहां पर फकीर देखिए।।
बिगड़ता यहां पर खान-पान देखिए,बिगड़ता यहां मेहमान देखिए।
बिगड़ता यहां पर ईमान देखिए, बिगड़ता यहां पर जहान देखिए।।
बिगड़ता परिवार देखिए ………………

सतपाल चौहान।

Language: Hindi
3 Likes · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
Manishi Sinha
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
पास बुलाता सन्नाटा
पास बुलाता सन्नाटा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
Harminder Kaur
दुश्मन को दहला न सके जो              खून   नहीं    वह   पानी
दुश्मन को दहला न सके जो खून नहीं वह पानी
Anil Mishra Prahari
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सुबह की एक कप चाय,
सुबह की एक कप चाय,
Neerja Sharma
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
युद्ध
युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
Jitendra kumar
मौहब्बत क्या है? क्या किसी को पाने की चाहत, या फिर पाकर उसे
मौहब्बत क्या है? क्या किसी को पाने की चाहत, या फिर पाकर उसे
पूर्वार्थ
😊😊😊
😊😊😊
*प्रणय प्रभात*
मन करता है अभी भी तेरे से मिलने का
मन करता है अभी भी तेरे से मिलने का
Ram Krishan Rastogi
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
न कोई काम करेंगें,आओ
न कोई काम करेंगें,आओ
Shweta Soni
" कुछ काम करो "
DrLakshman Jha Parimal
मेरा गांव
मेरा गांव
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
Shekhar Chandra Mitra
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
** चीड़ के प्रसून **
** चीड़ के प्रसून **
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
sushil yadav
*मैं, तुम और हम*
*मैं, तुम और हम*
sudhir kumar
3154.*पूर्णिका*
3154.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*कण-कण में तुम बसे हुए हो, दशरथनंदन राम (गीत)*
*कण-कण में तुम बसे हुए हो, दशरथनंदन राम (गीत)*
Ravi Prakash
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
Phool gufran
अन्न का मान
अन्न का मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...