Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

बावरी

मैं बावरी तेरी सांवरिया ,सुन ले मेरी पुकार
है मेरा अधिकार नहीं तो करूंगी मैं तकरार
करूंगी मैं तकरार तुम्हें आना ही होगा
मुझे समझा कर एक-एक अर्थ बताना होगा
प्रेम मे पड़ मैं मर ना जाऊं,क्या कहूं मैं सांवरी
मैं बैरागन कब तक हूं ,पूंछ रही मैं बावरी ।

चितचोर तेरी स्मृति में,अपना सब कुछ भूली
नही भूल सकी हूं मैं,संग तेरे झूला झूली
संग तेरे झूला झूली, मुग्ध मगन होकर नाची
विश्वास कैसे दिलाऊं हे सखि कह रही मैं सांची
विरह पीडा सही न जाये सुन लो माखनचोर
अब दर्शन दे भी जाओ कृपा करो चितचोर ।

Language: Hindi
478 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप जरा सा समझिए साहब
आप जरा सा समझिए साहब
शेखर सिंह
साँवरिया
साँवरिया
Pratibha Pandey
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Don't Give Up..
Don't Give Up..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
Rj Anand Prajapati
😊 व्यक्तिगत मत :--
😊 व्यक्तिगत मत :--
*प्रणय प्रभात*
फ़ितरतन
फ़ितरतन
Monika Verma
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
लेखक
लेखक
Shweta Soni
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
बेटी-पिता का रिश्ता
बेटी-पिता का रिश्ता
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
भावो को पिरोता हु
भावो को पिरोता हु
भरत कुमार सोलंकी
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*डॉंटा जाता शिष्य जो, बन जाता विद्वान (कुंडलिया)*
*डॉंटा जाता शिष्य जो, बन जाता विद्वान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मंजिलें
मंजिलें
Santosh Shrivastava
``बचपन```*
``बचपन```*
Naushaba Suriya
किया है यूँ तो ज़माने ने एहतिराज़ बहुत
किया है यूँ तो ज़माने ने एहतिराज़ बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
मेरी मां।
मेरी मां।
Taj Mohammad
*नववर्ष*
*नववर्ष*
Dr. Priya Gupta
"सियार"
Dr. Kishan tandon kranti
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आसमान को उड़ने चले,
आसमान को उड़ने चले,
Buddha Prakash
वोट डालने जाना
वोट डालने जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...