Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम

लाल भारती माँ के हैं हम, सरहद के रखवाले हैं।
बुद्ध-राम की धरती अपनी, अमन चाहने वाले हैं।
सरहद पर जो खड़ा हिमालय, ऊँचा भाल हमारा है।
नींच शत्रु ने मलिन आँख से, इसको आज निहारा है।।

रिपु-दल को औकात बताने, सरहद पर हम जायेंगे।
अरि – मर्दन कर उसी लहू से, माथे तिलक लगायेंगे।
आन-बान से राष्ट्र-ध्वजा निज, सरहद पर फहराएंगे।
हिन्द देश के प्रहरी हम सब, इसकी लाज बचायेंगे।।

सिंह गर्जना करके अरि का, हिय तल भी थर्याएंगे।
नापाक इरादे वैरी के, पूर्ण न होने पाएंगे।
नृत्य करेगी युद्ध – भूमि में, वीर जवानों की टोली।
विश्व काँपता रह जायेगा, सुन इन्कलाब की बोली।।

अरि सिर गिरकर यही कहेंगे, पावन भूमि तुम्हारी है।
तेरी सरहद को छूकर की, हमने गलती भारी है।
सरहद की रक्षा की खातिर, माथे तिलक लगाना माँ
यदि लौट नहीं पाएं रण से, आँसू नहीं बहाना माँ।।

नाथ सोनांचली

388 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रक्तिम- इतिहास
रक्तिम- इतिहास
शायर देव मेहरानियां
मांँ ...….....एक सच है
मांँ ...….....एक सच है
Neeraj Agarwal
" परदेशी पिया "
Pushpraj Anant
दुश्मन जमाना बेटी का
दुश्मन जमाना बेटी का
लक्ष्मी सिंह
मिलन
मिलन
Gurdeep Saggu
"दीया और तूफान"
Dr. Kishan tandon kranti
" जीवन है गतिमान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
संघर्ष
संघर्ष
विजय कुमार अग्रवाल
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
*दीपावली का ऐतिहासिक महत्व*
*दीपावली का ऐतिहासिक महत्व*
Harminder Kaur
■ आज की मांग
■ आज की मांग
*Author प्रणय प्रभात*
*जागा भारत चल पड़ा, स्वाभिमान की ओर (कुंडलिया)*
*जागा भारत चल पड़ा, स्वाभिमान की ओर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खुद को तलाशना और तराशना
खुद को तलाशना और तराशना
Manoj Mahato
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
ruby kumari
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
23/134.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/134.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दूसरों की आलोचना
दूसरों की आलोचना
Dr.Rashmi Mishra
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
Atul "Krishn"
गीत
गीत
Shiva Awasthi
मेरा भूत
मेरा भूत
हिमांशु Kulshrestha
Little Things
Little Things
Dhriti Mishra
देश गान
देश गान
Prakash Chandra
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
दोहे. . . . जीवन
दोहे. . . . जीवन
sushil sarna
मित्र भाग्य बन जाता है,
मित्र भाग्य बन जाता है,
Buddha Prakash
Loading...