Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

बाल कविता: मोर

बाल कविता: मोर
**************
जंगल जंगल रहता हूँ,
केका केका करता हूँ,
लोग बोलते मोर मुझको,
राष्ट्रीय पक्षी कहलाता हूँ।
जंगल जंगल रहता हूँ…….

जब नाचता लगता सुंदर,
हीरे जड़े पंखों के अंदर,
इंद्रधनुष सा सौन्दर्य मेरा,
सिर पर ताज रखता हूँ।
जंगल जंगल रहता हूँ…….

काले बादल जब भी आते,
मुझको हैं वे बड़े लुभाते,
सावन बरसे भादो बरसे,
पीकर प्यास बुझाता हूँ।
जंगल जंगल रहता हूँ…….

बड़े कीमती मेरे पंख,
पवित्र होता जितना शंख,
घर मे रखते बच्चे बूढ़े,
सबके मन को भाता हूँ।
जंगल जंगल रहता हूँ…….

*********📚*********
स्वरचित कविता 📝
✍️रचनाकार:
राजेश कुमार अर्जुन

4 Likes · 5 Comments · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे हृदय ने पूछा तुम कौन हो ?
मेरे हृदय ने पूछा तुम कौन हो ?
Manju sagar
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
Neelam Sharma
" तुम्हारी जुदाई में "
Aarti sirsat
जीवनामृत
जीवनामृत
Shyam Sundar Subramanian
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
2970.*पूर्णिका*
2970.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नम्रता
नम्रता
ओंकार मिश्र
राही
राही
RAKESH RAKESH
!! गुलशन के गुल !!
!! गुलशन के गुल !!
Chunnu Lal Gupta
*मोबाइल पर पढ़ते बच्चे (बाल कविता)*
*मोबाइल पर पढ़ते बच्चे (बाल कविता)*
Ravi Prakash
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
Shweta Chanda
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
बहू और बेटी
बहू और बेटी
Mukesh Kumar Sonkar
साजिशन दुश्मन की हर बात मान लेता है
साजिशन दुश्मन की हर बात मान लेता है
Maroof aalam
छाऊ मे सभी को खड़ा होना है
छाऊ मे सभी को खड़ा होना है
शेखर सिंह
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
"खुद के खिलाफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
Ranjeet kumar patre
जिसके पास ज्ञान है,
जिसके पास ज्ञान है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
माँ
माँ
Sidhartha Mishra
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
नेताम आर सी
जीने का हौसला भी
जीने का हौसला भी
Rashmi Sanjay
धरती के सबसे क्रूर जानवर
धरती के सबसे क्रूर जानवर
*Author प्रणय प्रभात*
" फेसबूक फ़्रेंड्स "
DrLakshman Jha Parimal
आजकल
आजकल
Munish Bhatia
Loading...