Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

बाल कविता: नदी

बाल कविता: नदी
**************

दूर देश से आती हूँ,
शीतल जल मैं लाती हूँ,
जीव- जन्तु पानी पीते,
सबकी प्यास बुझाती हूँ।

चलती हूँ मैं लहराकर,
आँचल अपना फैलाकर,
मैदान छोटे पड़ जाते,
जब रुद्र रूप दिखाती हूँ।

ऊंचे हिम से आती उतर,
घने जंगल से जाती गुजर,
कंकड़ पत्थर लेकर साथ,
आगे बढ़ती जाती हूँ।

शहर बसते मेरे किनारे,
व्यापार फलते मेरे सहारे,
चलते नौका और जहाज़,
सागर में मिल जाती हूँ।

गंगा यमुना रावी मेरे नाम,
सदा बहते रहना मेरा काम,
धरती को मैं शीतल रखती,
नदी- सरिता कहलाती हूँ।

*********📚*********
स्वरचित कविता 📝
✍️रचनाकार:
राजेश कुमार अर्जुन

2 Likes · 3 Comments · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इशारा दोस्ती का
इशारा दोस्ती का
Sandeep Pande
मै शहर में गाँव खोजता रह गया   ।
मै शहर में गाँव खोजता रह गया ।
CA Amit Kumar
इरशा
इरशा
ओंकार मिश्र
कुछ लोगों के बाप,
कुछ लोगों के बाप,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक मुक्तक
एक मुक्तक
सतीश तिवारी 'सरस'
सावन आया झूम के .....!!!
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
अपनी पहचान
अपनी पहचान
Dr fauzia Naseem shad
296क़.*पूर्णिका*
296क़.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
I KNOW ...
I KNOW ...
SURYA PRAKASH SHARMA
*युद्ध*
*युद्ध*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपना भी एक घर होता,
अपना भी एक घर होता,
Shweta Soni
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
मेरी गोद में सो जाओ
मेरी गोद में सो जाओ
Buddha Prakash
*साथ तुम्हारा मिला प्रिये तो, रामायण का पाठ कर लिया (हिंदी ग
*साथ तुम्हारा मिला प्रिये तो, रामायण का पाठ कर लिया (हिंदी ग
Ravi Prakash
६४बां बसंत
६४बां बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ एक_पैग़ाम :-
■ एक_पैग़ाम :-
*प्रणय प्रभात*
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#तुम्हारा अभागा
#तुम्हारा अभागा
Amulyaa Ratan
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हमदम का साथ💕🤝
हमदम का साथ💕🤝
डॉ० रोहित कौशिक
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
एक शेर
एक शेर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
Vicky Purohit
पंडित मदनमोहन मालवीय
पंडित मदनमोहन मालवीय
नूरफातिमा खातून नूरी
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
surenderpal vaidya
बह्र-2122 1212 22 फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन काफ़िया -ऐ रदीफ़ -हैं
बह्र-2122 1212 22 फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन काफ़िया -ऐ रदीफ़ -हैं
Neelam Sharma
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...