Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2023 · 1 min read

बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय

बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
****************************

रंग बिरंगें पंखों वाली, तितली रानी उड़ती है।
आओ बच्चों हम सब सीखे, क्या क्या यह करती है।।

सुबह को उठती कुल्ला करती, मंजन भी यह करती है।
योगा करती रोज नहाती, सुन्दर सुन्दर दिखती है।।

मम्मी उसको खाना देती, वह टिफिन में रखती है।
लेकर बस्ता नाप के रस्ता, वह विद्यालय जाती है।।

नन्हे मुन्ने बच्चे मिलते, सबको गले लगाती है।
खूब पढोगे आगे बढ़ोगे, यह सबको सिखलाती है।।

रंग बिरंगें पंखों वाली, तितली रानी उड़ती है।
आओ बच्चों हम सब सीखे क्या क्या यह करती है।।

****************📚*****************

स्वरचित कविता 📝
✍️रचनाकार:
राजेश कुमार अर्जुन

5 Likes · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यहां लोग सच बोलने का दावा तो सीना ठोक कर करते हैं...
यहां लोग सच बोलने का दावा तो सीना ठोक कर करते हैं...
Umender kumar
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
फल और मेवे
फल और मेवे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
Suryakant Dwivedi
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
हिंदी दिवस पर विशेष
हिंदी दिवस पर विशेष
Akash Yadav
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
"बचपन"
Dr. Kishan tandon kranti
3250.*पूर्णिका*
3250.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
Aish Sirmour
The Sky Above
The Sky Above
R. H. SRIDEVI
रमेशराज के 7 मुक्तक
रमेशराज के 7 मुक्तक
कवि रमेशराज
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
देश हमारा
देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
Shyam Sundar Subramanian
मन
मन
Dr.Priya Soni Khare
*नयनों में तुम बस गए, रामलला अभिराम (गीत)*
*नयनों में तुम बस गए, रामलला अभिराम (गीत)*
Ravi Prakash
जिंदगी न जाने किस राह में खडी हो गयीं
जिंदगी न जाने किस राह में खडी हो गयीं
Sonu sugandh
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
पूर्वार्थ
घर और घर की याद
घर और घर की याद
डॉ० रोहित कौशिक
बचपन की मोहब्बत
बचपन की मोहब्बत
Surinder blackpen
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
Kumar lalit
मां
मां
Slok maurya "umang"
Loading...