Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2022 · 1 min read

बालगीत :- चाँद के चर्चे

चर्चे हैं चाँद के, आजकल गली-गली।
बड़े तो बड़े, बच्चों में भी बात चली।।

मम्मी ने व्रत रखा हुआ है, चुन्नू-मुन्नू देखें,
चाँद बिना व्रत कैसे खोलें, दोनों बैठे सोचें।
बीती शाम रहे ठगे, चंदा की न छवि दिखी।
चर्चे हैं चाँद के आजकल गली-गली।
बड़े तो बड़े, बच्चों में भी बात चली।।

बच्चे छत पर जा, पल-पल मँडराये रहे,
दिखे न चंदामामा, अकड़ दिखलाये रहे।
मम्मी-पापा घबराये, रात भी ढलती सी लगी।
चर्चे हैं चाँद के, आजकल गली-गली।
बड़े तो बड़े, बच्चों में भी बात चली।।

छत पर चढ़, चुन्नू जा बैठा कोने को घेरे,
सिग्नल मिले, यही सोच मुन्नू लगा रहा फेरे।
खिले मुख ताली बजी, चाँद की झलक मिली।
चर्चे हैं चाँद के, आजकल गली-गली।
बड़े तो बड़े, बच्चों में भी बात चली।।

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)
दिनांक :- २६/१०/२०२१.

3 Likes · 204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
कलियुग
कलियुग
Bodhisatva kastooriya
अकेले आए हैं ,
अकेले आए हैं ,
Shutisha Rajput
#गणितीय प्रेम
#गणितीय प्रेम
हरवंश हृदय
घर के आंगन में
घर के आंगन में
Shivkumar Bilagrami
"अकाल"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम हासिल ही हो जाओ
तुम हासिल ही हो जाओ
हिमांशु Kulshrestha
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
Vishal babu (vishu)
दिल की दहलीज़ पर जब कदम पड़े तेरे ।
दिल की दहलीज़ पर जब कदम पड़े तेरे ।
Phool gufran
धर्म की खूंटी
धर्म की खूंटी
मनोज कर्ण
"ना अपना निर्णय कोई<
*Author प्रणय प्रभात*
*हंगामा करने वाले, समझो बस शोर मचाते हैं (हिंदी गजल)*
*हंगामा करने वाले, समझो बस शोर मचाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
पिता और पुत्र
पिता और पुत्र
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चंद तारे
चंद तारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कोतवाली
कोतवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
Shyam Pandey
अवसर
अवसर
संजय कुमार संजू
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
Shweta Soni
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
इंसानियत
इंसानियत
साहित्य गौरव
💐प्रेम कौतुक-224💐
💐प्रेम कौतुक-224💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुखड़े पर खिलती रहे, स्नेह भरी मुस्कान।
मुखड़े पर खिलती रहे, स्नेह भरी मुस्कान।
surenderpal vaidya
एक पत्नी अपने पति को तन मन धन बड़ी सहजता से सौंप देती है देत
एक पत्नी अपने पति को तन मन धन बड़ी सहजता से सौंप देती है देत
Annu Gurjar
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
रात
रात
SHAMA PARVEEN
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
ख़ास विपरीत परिस्थिति में सखा
ख़ास विपरीत परिस्थिति में सखा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...