Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2016 · 2 min read

बारिश वाली रात

रवि को फिर वहीं रात याद आ गयी , मूसलाधार बरसात हो रही थी और साँझ ने यह कहते हुए “आओ , मेरे पास । बहुत भीग गये हो कुछ ताप दूँ तुमको । उसे अपनी कोख में छिपा लिया था और रवि जिसकी सर्दी से हृदय धड़कन बढ़ गई थी यह कहते हुए , साँझ ! मुझे दुपका लो अपने हृदयतल में। साँझ में समा गया था । अंग से अंग सटाये दोनों को आभास न हुआ कब रात हुई और कब सुबह ।

सूर्य आकाश में अपनी रश्मियों के साथ चमक रहा था वहीं किरणें उन दोनों पर पड़ रही थी ।

साँझ ने झकझोरते हुए कहा , ” रवि , उठो । माँ याद कर रही होंगी , उठो और जाओ घर ।

रवि चलता गया , कदम बढाने के साथ -साथ साँझ के साथ बिताए पल भी आगे ही आगे बढ़ते जा रहे थे ।

जवानी भी किसी रूपसि कम नहीं होती जो अपने अंग -प्रत्यंग की खुशबू दूसरे में बसा जीना दुश्वार कर देती है और कल्पनालोक के संसार में विचरण करने को मजबूर कर अपने को किसी राजकुमार से कम भास नहीं कराती ।

कालेज से घर के रास्ते को लोटते हुए रवि की निगाह बरबस उस इमारत पर टिक जाती थी
जो मुगलकाल में बनी थी , जहाँ रवि और साँझ का प्रथम प्रणय शुरू हुआ था । प्राय: होठों से बुदबुदाते हुए मुस्कराहट के साथ पुकार बैठता था “साँझ , तुम कहाँ हो, कब आओगी “पर साँझ की अनुपस्थिति में एक आवाज अन्तस से आती और गूँज उठती -“रवि ! रवि !

मैं यहीं तुम्हारे पास हूँ और हमेशा , हमेशा के लिए ।

बस इन्तजार है उस दिन का जब तुम पढ़ाई पूरी करने के बाद मुझे अपनी दुल्हन बना हमेशा के लिए मुझे ले जाओगें ।

साँझ भावुक को अपनी निजता को खोलने लगी , रवि , ” पता है पापा ने एक लड़का देखा लेकिन तुम को छोड़ और किसी को जिन्दगी भर को अपना कहना रवि !अब सम्भव नहीं ।

यह विचारोक्ति जैसे परमपिता ने दोनों के बीच कोई कनेक्शन स्थापित कर रखा हो , रवि बात सुन रहा और एक बिजली सी चमक साँझ के अन्तर प्रकाशमान हो कहने लगी , साँझ ! बस तुम मेरी , केवल मेरी हो ।

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
73 Likes · 474 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
#गीत-
#गीत-
*Author प्रणय प्रभात*
पूरी उम्र बस एक कीमत है !
पूरी उम्र बस एक कीमत है !
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-533💐
💐प्रेम कौतुक-533💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
Satish Srijan
बरसात।
बरसात।
Anil Mishra Prahari
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
Adarsh Awasthi
" खुशी में डूब जाते हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हम मुहब्बत कर रहे थे
हम मुहब्बत कर रहे थे
shabina. Naaz
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
लक्ष्मी सिंह
धुवाँ (SMOKE)
धुवाँ (SMOKE)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
निजी विद्यालयों का हाल
निजी विद्यालयों का हाल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
अगर मेरी मोहब्बत का
अगर मेरी मोहब्बत का
श्याम सिंह बिष्ट
परिपक्वता (maturity) को मापने के लिए उम्र का पैमाना (scale)
परिपक्वता (maturity) को मापने के लिए उम्र का पैमाना (scale)
Seema Verma
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
DrLakshman Jha Parimal
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*अगर तुम फरवरी में जो चले आते तो अच्छा था (मुक्तक)*
*अगर तुम फरवरी में जो चले आते तो अच्छा था (मुक्तक)*
Ravi Prakash
है स्वर्ग यहीं
है स्वर्ग यहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माली अकेला क्या करे ?,
माली अकेला क्या करे ?,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
Rajesh Kumar Arjun
नया साल लेके आए
नया साल लेके आए
Dr fauzia Naseem shad
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
manjula chauhan
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
प्रेम
प्रेम
Saraswati Bajpai
हम चाहते हैं
हम चाहते हैं
Basant Bhagawan Roy
2736. *पूर्णिका*
2736. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उत्कृष्टता
उत्कृष्टता
Paras Nath Jha
Loading...