Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

बारिश का मौसम

यह है बारिश का मौसम
सुनिए इसका कर्णप्रिय स्वर
निर्झर का झर झर
नदियों की कल कल
बिजली की चमचम
मेघों की गरजन
हवाओं की सनसन
भंवरों की गुनगुन
पंछियों का कलरव
कोयल की कूहू कूहू
पपीहा की पी कहां पी कहां
झूम रहा ओम् मस्ती में जहां

ओम प्रकाश भारती ओम्

Language: Hindi
2 Likes · 384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओमप्रकाश भारती *ओम्*
View all
You may also like:
అతి బలవంత హనుమంత
అతి బలవంత హనుమంత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
फूल ही फूल
फूल ही फूल
shabina. Naaz
ନୀରବତାର ବାର୍ତ୍ତା
ନୀରବତାର ବାର୍ତ୍ତା
Bidyadhar Mantry
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
शेखर सिंह
" ब्रह्माण्ड की चेतना "
Dr Meenu Poonia
■ अंतर्कलह और अंतर्विरोध के साथ खुली बगगवत का लोकतांत्रिक सी
■ अंतर्कलह और अंतर्विरोध के साथ खुली बगगवत का लोकतांत्रिक सी
*Author प्रणय प्रभात*
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
Aadarsh Dubey
3321.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3321.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आया जो नूर हुस्न पे
आया जो नूर हुस्न पे
हिमांशु Kulshrestha
*गाओ  सब  जन  भारती , भारत जिंदाबाद   भारती*   *(कुंडलिया)*
*गाओ सब जन भारती , भारत जिंदाबाद भारती* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
बेटियां
बेटियां
करन ''केसरा''
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
अनिल "आदर्श"
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
मेरा चाँद न आया...
मेरा चाँद न आया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
परिवर्तन विकास बेशुमार
परिवर्तन विकास बेशुमार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैंने आईने में जब भी ख़ुद को निहारा है
मैंने आईने में जब भी ख़ुद को निहारा है
Bhupendra Rawat
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
ख़्वाब की होती ये
ख़्वाब की होती ये
Dr fauzia Naseem shad
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
Shweta Soni
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
Dheerja Sharma
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
सत्य कुमार प्रेमी
स्थापित भय अभिशाप
स्थापित भय अभिशाप
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*प्रकृति-प्रेम*
*प्रकृति-प्रेम*
Dr. Priya Gupta
मुझे  बखूबी याद है,
मुझे बखूबी याद है,
Sandeep Mishra
Loading...