Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 3 min read

बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान

!! बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान!!

बाबा साहब भीमराव रामजी आंबेडकर एक महान पुरुष थे। इसमें कोई दो राय नहीं और नहीं कोई शक है। पर यह कहना कि वह भगवान थे, यह गलत है। क्योंकि भगवान वही व्यक्ति होते हैं जो अजन्मा हो। जो बार-बार जन्म के रुप में अवतार ले सकें। उसे कहते हैं भगवान। मतलब जो जन्म नहीं बल्कि अवतार लिया हो।
रही बात जन्म और अवतार में क्या अंतर है? उसको समझने की। जन्म लेने का मतलब हुआ कि जो मां कोख से जन्म लिया, उनका मृत्यु निश्चित है; जैसे कि हम सबका होता है कि कहीं न कहीं इस धरती पर जलाएं, दफनाएं या किसी कारणवश नदी में प्रवाहित किए जाते हैं। लेकिन अवतार का मतलब किसी मां के कोख से जन्म लेना ही हैं पर नाम मात्र की। क्योंकि वे लोग मां के कोख से जन्म नहीं बल्कि अवतार लेते हैं। मां के कोख से जन्म लेना तो उनका एक बहाना होता है। वास्तव में वह अवतार लेते हैं। अवतार का मतलब कि वह अजन्मा है। उनकी मृत्यु कभी नहीं हो सकती है। बल्कि समय आने पर उनकी वैराग्य हो जाती हैं।
तो इसी तरह भगवान और महान पुरुष में अंतर है; जैसे कि भगवान जब चाहे तब, जिस रुप में चाहे उस रुप में, जिस कोख से चाहे उस कोख से अवतार ले सकते हैं और समय आने पर वह वैराग्य ले सकते हैं। बल्कि महान पुरुष इस धरती पर जन्म लेते हैं और समय आने पर मृत हो जाते हैं। फिर जब अगली बार उनकी जन्म लेने की बारी आती है तो यह उनके पिछले जन्म के कर्म फल पर तय होती है कि अब आप किस योनि में जन्म लेंगे और किस रुप में लेंगे? यहां पर महान पुरुष अपने मन से कुछ भी नहीं कर सकते हैं।
तो इस प्रकार बाबा साहब भीमराव रामजी आंबेडकर एक महान पुरुष थे। उनका जन्म इस भारत भूमि पर हुआ था और समय आने पर उनकी मृत्यु हुई और वह मृत्यु को प्राप्त हुए।
क्षउदाहरण स्वरुप भारत के 2 महान ग्रंथ है। रामायण और महाभारत। तो उसमें से पहले हम रामायण पर चर्चा कर लेते हैं; जैसे कि आप जानते हैं कि रामायण में एक महान राजा दशरथ थे। उनकी जन्म हुई और फिर समय आने पर उनकी मृत्यु हुई। वह मृत्यु को प्राप्त हुए। उनकी तीन महारानियां थी। तीनों की मृत्यु हुई और वह तीनों मृत्यु को प्राप्त हुई। पर वहीं पर भगवान राम, लक्ष्मण और माता सीता अवतार लेते हैं। उनके (राजा दशरथ) पुत्र एवं बहू के रूप में और वह अंततः वैराग्य को जाते हैं। उनकी मृत्यु नहीं होती है; जैसे कि आप रामायण में पड़े होंगे या टीवी सीरियल में देखे होंगे।
वही दूसरा महान ग्रंथ महाभारत है। उसमे भी जब आप देखेंगे तो भगवान कृष्ण के जो माता-पिता हुए या उनको पालने वाली यशोदा माता हुई। ये सारे लोग जन्म लिए और समय आने पर मृत्यु को प्राप्त हुए। यहां तक की भगवान कृष्ण के सबसे प्रिय शिष्य अर्जुन भी जन्म लिए और मृत्यु को प्राप्त हुए। इसके अलावा जितने भी महाभारत में पात्र थे, सबकी जन्म हुई और मृत्यु को प्राप्त हुए। लेकिन भगवान कृष्ण अंत में वैराग्य हुए।

इन सभी तथ्यों से यह सिद्ध होता है कि बाबा साहब भीमराव रामजी अंबेडकर एक महान पुरुष एवं लेखक थे।
—————————-०००———————–

713 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहार
कहार
Mahendra singh kiroula
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
Surya Barman
😊अपडेट😊
😊अपडेट😊
*Author प्रणय प्रभात*
रिवायत
रिवायत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
गीत
गीत
Shiva Awasthi
तुम तो ठहरे परदेशी
तुम तो ठहरे परदेशी
विशाल शुक्ल
सब्र का बांँध यदि टूट गया
सब्र का बांँध यदि टूट गया
Buddha Prakash
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
दोस्ती
दोस्ती
राजेश बन्छोर
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"उपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
होली
होली
Madhavi Srivastava
रोमांटिक रिबेल शायर
रोमांटिक रिबेल शायर
Shekhar Chandra Mitra
आज की प्रस्तुति: भाग 3
आज की प्रस्तुति: भाग 3
Rajeev Dutta
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
शिव प्रताप लोधी
घर आना नॅंदलाल हमारे, ले फागुन पिचकारी (गीत)
घर आना नॅंदलाल हमारे, ले फागुन पिचकारी (गीत)
Ravi Prakash
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
प्रदूषन
प्रदूषन
Bodhisatva kastooriya
फ़र्क
फ़र्क
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
Sanjay ' शून्य'
बो रही हूं खाब
बो रही हूं खाब
Surinder blackpen
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो गुज़र गया
जो गुज़र गया
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
Dr. Man Mohan Krishna
अक्सर लोग सोचते हैं,
अक्सर लोग सोचते हैं,
करन ''केसरा''
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...