Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Dec 2022 · 1 min read

बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस

दिक्षा भूमि में आकर देखो,
बुद्ध धम्म अपना कर देखो,
जिसने बुद्ध का राह दिया,
दलित शोषितों का वह राजा है,
भीमराव बोधिसत्व कहलाये है।

जय भीम जय भीम,
गूंजता जग में सारा है,
संघर्षों का मसीहा युग का,
दलितों का मसीहा कहलाये है।

अम्बेडकर संविधान निर्माता,
खोला भारत का भाग्य है,
गुलामी की जंजीरों को तोड़ा,
बाबा साहेब वह कहलाये है।

छुआछूत पर कसा सिकंजा,
समता शिक्षा का दिलाया अधिकार,
नारी को सम्मान मिला,
डॉ. भीमराव भारत रत्न कहलाये।

पढ़ लिख कर विश्व में नाम किया,
भारत का गौरव सिर का ताज बना,
छह दिसंबर उन्नीस सौ छ्हप्पन परिनिर्वाण दिवस,
बाबा भीमराव अम्बेडकर महान कहलाये।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

3 Likes · 2 Comments · 431 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
कभी शांत कभी नटखट
कभी शांत कभी नटखट
Neelam Sharma
राममय दोहे
राममय दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कवियों में सबसे महान कार्य तुलसी का (घनाक्षरी)
कवियों में सबसे महान कार्य तुलसी का (घनाक्षरी)
Ravi Prakash
माँ
माँ
Harminder Kaur
3343.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3343.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Pratibha Pandey
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
Neeraj Agarwal
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
गीत
गीत
Pankaj Bindas
"सोचो ऐ इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Naushaba Suriya
कैसे ज़मीं की बात करें
कैसे ज़मीं की बात करें
अरशद रसूल बदायूंनी
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
कोई भी मजबूरी मुझे लक्ष्य से भटकाने में समर्थ नहीं है। अपने
कोई भी मजबूरी मुझे लक्ष्य से भटकाने में समर्थ नहीं है। अपने
Ramnath Sahu
क्यों तुम्हें याद करें
क्यों तुम्हें याद करें
gurudeenverma198
तजुर्बे से तजुर्बा मिला,
तजुर्बे से तजुर्बा मिला,
Smriti Singh
मेरी खुशी हमेसा भटकती रही
मेरी खुशी हमेसा भटकती रही
Ranjeet kumar patre
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
Dhriti Mishra
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
लक्ष्मी सिंह
मतदान जरूरी है - हरवंश हृदय
मतदान जरूरी है - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
तुम ही तुम हो
तुम ही तुम हो
मानक लाल मनु
■ तय मानिए...
■ तय मानिए...
*प्रणय प्रभात*
रामचंद्र झल्ला
रामचंद्र झल्ला
Shashi Mahajan
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बारिशों  के  मौसम  में
बारिशों के मौसम में
shabina. Naaz
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
Loading...