Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2023 · 2 min read

बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती

बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती

धन्य हुई ये धरा महू की, धन्य ये मध्य प्रदेश हुआ
धन्य सारा विश्व हुआ जब, अम्बेडकर का उदय हुआ
सन् १८९१ में, जन्मा भारत का एक सितारा था
डॉ भीमराव आंबेडकर, दुनिया की आंख का तारा था
माता भीमाबाई पिता रामजी सेना में सूबेदार थै,
डा. भीमराव अंबेडकर, उनकी चौदहवीं संतान थे
तीक्ष्ण बुद्धि प्रतिभा का धनी बालक,
भीमराव रामजी सकपाल कहाया
प्रारंभिक शिक्षा को उनको सतारा में भर्ती कराया
एक देशस्थ ब्राह्मण शिक्षक ने,
अपना सरनेम अंबेडकर दे,
भीमराव अंबेडकर नाम धराया
माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक शिक्षा मुंबई में पाई
उच्च शिक्षा के लिए, फिंस्टन कालेज मुंबई में दाखिला पाया
एक शिक्षक श्री कृष्णा केलुस्कर के सहयोग से
बड़ौदा महाराज सयाजीराव गायकवाड़ से बजीफा पाया
सन् १९१२ में ग़ेजुएशन कराया
प्रतिभा देख अम्बेडकर जी की महाराजा ने लंदन भिजवाया
स्कूल आफ ईकोनामिक्स लंदन में दाखिल कराया
सन् १९१५ में एम ए अर्थ शास्त्र में पाया
बड़ौदा स्टेट में उनको सैन्य सचिव बनाया
लेकिन जातिगत भेद भाव से, उनको पद न भाया मुंबई बापिस आए अंबेडकर, सीडेनहम कालेज मुंबई में प्राध्यापक बने
सन् १९२० पीएचडी करने फिर विदेश गए
छत्रपति साहूजी महाराज कोल्हापुर मित्र नबल भटेना उनके सहयोगी बने
सन १९२४ में पीएचडी कर वापिस आए
रास न आई उन्हें नौकरी, समाज सेवा में आए
देश विदेश में शिक्षा से उनने, अपना नाम कमाया
विधि राजनीति अर्थशास्त्र का
उनने प्रकाश फैलाया
शोषित दलित और पीड़ित की एक मुखर आवाज बने समता लाने को समाज में, संघर्ष के वे पर्याय बने सामाजिकन्याय समानता और स्वतंत्रता, के वे प्रबल पक्षधर थे
इसको पाने समाज में, दिन रात एक करते थे आजादी के बाद संविधान सभा के अध्यक्ष बने
देश के प्रथम कानून मंत्री बने
भारत का संविधान बनाया न्याय और समानता के प्रतीक बने
प्रकाश पुंज बन गए बाबा
जन-जन को एक पथ दिखलाया, उनने अपनी प्रतिभा के दम पर दुनिया को लोहा मनवाया
कोटि-कोटि नमन चरणों में,
तुमने भारत मां का मान बढ़ाया

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

586 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
गज़ल
गज़ल
सत्य कुमार प्रेमी
आज ज़माना चांद पर पांव रख आया है ,
आज ज़माना चांद पर पांव रख आया है ,
पूनम दीक्षित
🔥आँखें🔥
🔥आँखें🔥
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ जिजीविषा : जीवन की दिशा।
■ जिजीविषा : जीवन की दिशा।
*प्रणय प्रभात*
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
आधारभूत निसर्ग
आधारभूत निसर्ग
Shyam Sundar Subramanian
युग प्रवर्तक नारी!
युग प्रवर्तक नारी!
कविता झा ‘गीत’
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
Dr. Vaishali Verma
हम कवियों की पूँजी
हम कवियों की पूँजी
आकाश महेशपुरी
मौत पर लिखे अशआर
मौत पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
मैं कौन हूँ कैसा हूँ तहकीकात ना कर
मैं कौन हूँ कैसा हूँ तहकीकात ना कर
VINOD CHAUHAN
बड्ड  मन करैत अछि  सब सँ संवाद करू ,
बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,
DrLakshman Jha Parimal
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
Dr MusafiR BaithA
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आओ चलें नर्मदा तीरे
आओ चलें नर्मदा तीरे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हे अयोध्या नाथ
हे अयोध्या नाथ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"राज़-ए-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"" *आओ करें कृष्ण चेतना का विकास* ""
सुनीलानंद महंत
"फलों की कहानी"
Dr. Kishan tandon kranti
ईश ......
ईश ......
sushil sarna
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
होने नहीं दूंगा साथी
होने नहीं दूंगा साथी
gurudeenverma198
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...