Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 2 min read

बाबागिरी

लघुकथा
बाबागिरी

नवनीत बचपन से ही बड़ा होनहार था। पहली कक्षा से ग्रेजुएशन तक की सभी कक्षाओं में प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण होने के तुरंत बाद अपने पहले ही प्रयास में यू.पी.एस.सी. की परीक्षा पास कर एक आई.पी.एस. अधिकारी बन गया।
निर्धारित प्रशिक्षण और परीवीक्षा अवधि पूरा करने के बाद पुलिस अधीक्षक के रूप में उसकी पोस्टिंग रामपुर जिले में होने के पहले ही हफ्ते गृहमंत्री जी का दौरा हुआ। मंत्री जी को उस क्षेत्र के प्रख्यात बाबा श्री संतराम जी के आश्रम उनके दर्शन के लिए जाना था।
निर्धारित तिथि को वह मंत्री जी के स्वागत के लिए पहुंच गया। जैसे ही मंत्री जी हैलीकॉप्टर से बाहर निकले, नवनीत के आश्चर्य का ठिकाना न था। उसके सैल्यूट के लिए उठे हाथ उठे ही और आँखें फटी की फटी रह गईं। मंत्री जी के रूप में उसकी यूनिवर्सिटी का वही लड़का था, जिसे यूनिवर्सिटी कैंपस में नशीले पदार्थों की बिक्री करने से कॉलेज से निष्कासित कर दिया गया था।
खैर, ड्यूटी तो करनी ही थी। वह मंत्री जी को ससम्मान बाबा जी आश्रम लेकर गया। मंत्री जी को जरा सा भी एहसास नहीं हुआ कि उनके साथ में चल रहा डी.एस.पी. कभी उसका जूनियर छात्र रह चुका है।
आश्रम में बाबा जी के दर्शन कर वह पुनः आश्चर्यचकित रह गया। बाबा जी कोई और नहीं उसी की यूनिवर्सिटी का वह पूर्व छात्र था, जिसे एक जूनियर लड़की से छेड़खानी करने पर बाकी लड़कियों ने मिलकर लात-घूँसों से खूब खातिरदारी करने के बाद पुलिस के हवाले कर दी थी।
आश्रम में मंत्री जी और बाबा जी के बीच मौसेरे भाईयों जैसीे चल रही बातचीत से ऐसा बिलकुल भी नहीं लग रहा था कि उनके संबंध बाबा जी और भक्तों जैसे हैं।
उधर आश्रम के बाहर मंत्री जी की पार्टी के कार्यकर्ता और बाबा जी के भक्तों की भीड़ उनकी जय-जयकार कर रही थी। इधर नवनीत अपनी यूनिवर्सिटी के इन दोनों होनहारों की प्रगति देख किंकर्तव्यविमूढ़ हो गया था।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
मां चंद्रघंटा
मां चंद्रघंटा
Mukesh Kumar Sonkar
■ आदिकाल से प्रचलित एक कारगर नुस्खा।।
■ आदिकाल से प्रचलित एक कारगर नुस्खा।।
*Author प्रणय प्रभात*
"फिर"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार चाहा था पा लिया मैंने।
प्यार चाहा था पा लिया मैंने।
सत्य कुमार प्रेमी
#गणितीय प्रेम
#गणितीय प्रेम
हरवंश हृदय
* शक्ति है सत्य में *
* शक्ति है सत्य में *
surenderpal vaidya
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
राम छोड़ ना कोई हमारे..
राम छोड़ ना कोई हमारे..
Vijay kumar Pandey
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
कब तक बरसेंगी लाठियां
कब तक बरसेंगी लाठियां
Shekhar Chandra Mitra
जब  फ़ज़ाओं  में  कोई  ग़म  घोलता है
जब फ़ज़ाओं में कोई ग़म घोलता है
प्रदीप माहिर
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
“छोटा उस्ताद ” ( सैनिक संस्मरण )
“छोटा उस्ताद ” ( सैनिक संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
gurudeenverma198
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3131.*पूर्णिका*
3131.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
डॉ. दीपक मेवाती
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
Vishal babu (vishu)
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
वो इबादत
वो इबादत
Dr fauzia Naseem shad
दोस्ती एक गुलाब की तरह हुआ करती है
दोस्ती एक गुलाब की तरह हुआ करती है
शेखर सिंह
आ अब लौट चलें.....!
आ अब लौट चलें.....!
VEDANTA PATEL
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गाएं
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सितमज़रीफी किस्मत की
सितमज़रीफी किस्मत की
Shweta Soni
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Trying to look good.....
Trying to look good.....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...