Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2022 · 1 min read

बादल का रौद्र रूप

मैने तो देखा सदा धरती के प्रति बादल का प्यार,
कभी नहीं देखा था ऐसा रौद्र रूप ऐसा व्यवहार ।
लेकर आता था अंक में भरकर बारिश की बूंदें ,
धरती आल्हादित होती थी अपनी पलकें मूंदे।
लहलहाने लगती थी उसकी धानी चुनरिया ,
आसमान की जब वोह खोलता था केवड़िया।
धरती के खिलखिलाते चेहरे को देख प्रसन्न होता था,
धरती के प्रति उसका सारा प्यार उमड़ पड़ता था।
रूठ भी जाता था कभी मगर मनुहार से मान जाता,
मगर इतना क्रोध तो वो पहले कभी नही करता था।
फिर अचानक ऐसा क्या हो गया जो क्रोधित हो गया,
सौम्य रूप से अचानक प्रलय रूप वो हो गया ।
वर्षा की गगरी भरकर तो लाया था सदा की तरह ,
परंतु क्यों सहसा फट पड़ा ज्वालामुखी की तरह।
शीतल नन्ही कोमल बूंदें बन बैठी गर्म तपती ज्वाला,
जिसने जीव जंतु ,खेल खलिहान ,मनुष्यों को निगल डाला।
एक प्रलयंकारी बाढ़ थी जो सब कुछ तबाह कर गई,
बादल की क्रोध अग्नि एक विनाश लीला मचा गई।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 436 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
हमें दुख देकर खुश हुए थे आप
हमें दुख देकर खुश हुए थे आप
ruby kumari
पुच्छल दोहा
पुच्छल दोहा
सतीश तिवारी 'सरस'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
Phool gufran
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
Dr Archana Gupta
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
Manoj Kushwaha PS
3113.*पूर्णिका*
3113.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब और ढूंढने की ज़रूरत नहीं मुझे
अब और ढूंढने की ज़रूरत नहीं मुझे
Aadarsh Dubey
इश्क  के बीज बचपन जो बोए सनम।
इश्क के बीज बचपन जो बोए सनम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
अब महान हो गए
अब महान हो गए
विक्रम कुमार
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
Arvind trivedi
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
जिस घर में---
जिस घर में---
लक्ष्मी सिंह
समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है (मुक्तक)
समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है (मुक्तक)
Ravi Prakash
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
Trishika S Dhara
" तू "
Dr. Kishan tandon kranti
क़यामत ही आई वो आकर मिला है
क़यामत ही आई वो आकर मिला है
Shweta Soni
"कब तक हम मौन रहेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
राम का आधुनिक वनवास
राम का आधुनिक वनवास
Harinarayan Tanha
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
धिक्कार
धिक्कार
Shekhar Chandra Mitra
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
Er.Navaneet R Shandily
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...