Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

बात गर सच है तो ताईद का मतलब क्या है।

बात गर सच है तो ताईद का मतलब क्या है।
झूठे लोगों से यूँ उम्मीद का मतलब क्या है।।
बात कोई भी हो जब फ़र्क़ नहीं है उन पर।
फिर उसी बात पे ताकीद का मतलब क्या है।।
कोई रिश्ता ही नहीं चाहते जब वो मुझसे।
टूटे फिर रिश्ते को तजदीद का मतलब क्या है।।
चाँद के दीद से हासिल न हमें कुछ होगा।
हम ग़रीबों के लिए ईद का मतलब क्या है।।
एक गुमनाम सा साया हूँ ‘अकेला’ मैं तो।
आपका यूँ मेरा तक़लीद का मतलब क्या है।।
अकेला इलाहाबादी
ताईद- स्पष्टीकरण
ताकीद- ज़ोर, चेतावनी
तजदीद- जीर्णोद्धार
तक़लीद- पीछा करना

527 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ चिंतन...
■ चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
पूर्वार्थ
मेरे देश के युवाओं तुम
मेरे देश के युवाओं तुम
gurudeenverma198
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
Raju Gajbhiye
मंजिल को अपना मान लिया !
मंजिल को अपना मान लिया !
Kuldeep mishra (KD)
*सुख या खुशी*
*सुख या खुशी*
Shashi kala vyas
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
Ravi Prakash
आंखों को मल गए
आंखों को मल गए
Dr fauzia Naseem shad
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
Paras Nath Jha
✍️महामानव को कोटि कोटि प्रणाम
✍️महामानव को कोटि कोटि प्रणाम
'अशांत' शेखर
मेरे सपनों में आओ . मेरे प्रभु जी
मेरे सपनों में आओ . मेरे प्रभु जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
प्रेमदास वसु सुरेखा
"बेज़ारी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
“पतंग की डोर”
“पतंग की डोर”
DrLakshman Jha Parimal
हे काश !!
हे काश !!
Akash Yadav
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
Girvi rakh ke khud ke ashiyano ko
Girvi rakh ke khud ke ashiyano ko
Sakshi Tripathi
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
"कलयुग का मानस"
Dr Meenu Poonia
हम
हम
Shriyansh Gupta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बाल कविता हिन्दी वर्णमाला
बाल कविता हिन्दी वर्णमाला
Ram Krishan Rastogi
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
किताब
किताब
Lalit Singh thakur
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
2318.पूर्णिका
2318.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...