Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

बात गर सच है तो ताईद का मतलब क्या है।

बात गर सच है तो ताईद का मतलब क्या है।
झूठे लोगों से यूँ उम्मीद का मतलब क्या है।।
बात कोई भी हो जब फ़र्क़ नहीं है उन पर।
फिर उसी बात पे ताकीद का मतलब क्या है।।
कोई रिश्ता ही नहीं चाहते जब वो मुझसे।
टूटे फिर रिश्ते को तजदीद का मतलब क्या है।।
चाँद के दीद से हासिल न हमें कुछ होगा।
हम ग़रीबों के लिए ईद का मतलब क्या है।।
एक गुमनाम सा साया हूँ ‘अकेला’ मैं तो।
आपका यूँ मेरा तक़लीद का मतलब क्या है।।
अकेला इलाहाबादी
ताईद- स्पष्टीकरण
ताकीद- ज़ोर, चेतावनी
तजदीद- जीर्णोद्धार
तक़लीद- पीछा करना

274 Views
You may also like:
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पिता
Mamta Rani
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
पंचशील गीत
Buddha Prakash
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनामिका के विचार
Anamika Singh
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरे पापा
Anamika Singh
बाबू जी
Anoop Sonsi
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
Loading...