Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

बाइस्कोप मदारी।

बाइस्कोप मदारी।

आज की पीढ़ी को क्या मालूम
क्या होती है राब।
बहुत सी चीजें लुप्त हो गयी
बन गयी एक दम ख्वाब।

सनई पटुआ जोंधरी बर्रे,
मोटरी हो गयी गायब।
कोदौ बगरी और कोलैया,
सांवा गुठली बायब।

धकुली रहट व पुढ़ पुरवाही,
दोगला और बैलगाड़ी।
गुदरी तपता मचिया पीढ़ा
घर से भये उजाड़ी।

बेढ़ई रिंकवच पना फुलौरी,
पूवा,केरमुआ साग।
पहुँची टीका हसुली सब्जा,
ऐरन नहीं सुहाग।

घूंघट और महावार गुम हुआ,
गुम हुई बंजनू पायल।
लिए टोकरी मालिन गुम हुई,
कोई न होता घायल।

डंहकी डोरिया,डफ़ला डफली,
और न रही डुग्गी।
खपरेला तरवहा परछती,
नहीँ रही अब झुग्गी।

सतघरवा सुरबग्घी लीलहर,
झाबर,आईस-पाइस।
लुकनछिपाई,ताई-ताई पुरिया,
गेम न रहा नाइस।

ड्योढ़ी,ढैया नहीं कोई लाता,
सेठ से बीज उधारी।
कथिक की नाच गुम हुआ कीर्तन,
बाइस्कोप मदारी।

उपला ढेर कन्डहुला होता,
भूसा रूम भुसैला।
लकड़ी के बर्तन कहलाते,
कठैली कठैला।

हर जुवाठ व पैना नाधा,
बैल की जोड़ी गोई।
बारी बारी काम करे मिल,
हूंण कहावै सोई।

और बहुत सी चीजें गुम हुई,
कहाँ तक नाम जगाऊँ।
कविता लंबी हो रही सो मैं,
पूर्ण विराम लगाऊँ।

Language: Hindi
114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
Kanchan Khanna
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
CA Amit Kumar
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*जिंदगी  जीने  का नाम है*
*जिंदगी जीने का नाम है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
तुम्हें बुरी लगती हैं मेरी बातें, मेरा हर सवाल,
तुम्हें बुरी लगती हैं मेरी बातें, मेरा हर सवाल,
पूर्वार्थ
झुका के सर, खुदा की दर, तड़प के रो दिया मैने
झुका के सर, खुदा की दर, तड़प के रो दिया मैने
Kumar lalit
रंग उकेरे तूलिका,
रंग उकेरे तूलिका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Love yourself
Love yourself
आकांक्षा राय
बेतरतीब
बेतरतीब
Dr. Kishan tandon kranti
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
#OMG
#OMG
*Author प्रणय प्रभात*
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
Gouri tiwari
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
शिव प्रताप लोधी
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चित्र कितना भी ख़ूबसूरत क्यों ना हो खुशबू तो किरदार में है।।
चित्र कितना भी ख़ूबसूरत क्यों ना हो खुशबू तो किरदार में है।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
प्रकट भये दीन दयाला
प्रकट भये दीन दयाला
Bodhisatva kastooriya
*सजा- ए – मोहब्बत *
*सजा- ए – मोहब्बत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...