Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

बांते

भीगती जाती हैं,
आपस की
बातें भी,
काफी चाय और
शिकंजी
की तरावट में,
बातें , घुलती जाती हैं,
हंसी- खुशी सहानुभूति के
रंग और रस में,
कहने वाले से अधिक,
सुनने वाले की,
उत्सुकता से
संपूर्ण होती हैं,
सारी बातें।
बातों में से ही,
जब जब निकल आती है
इक नयी सी बात।
तब उभरता है,
बातों का ,
इन्द्रधनुष।
तब,
बातें ही,
थाम कर संवार देती हैं।
रिश्ते और बंधन ।

डा. पूनम पांडे

Language: Hindi
2 Likes · 52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
जान का नया बवाल
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
💐कुड़ी तें लग री शाइनिंग💐
💐कुड़ी तें लग री शाइनिंग💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
gurudeenverma198
■ महसूस करें तो...
■ महसूस करें तो...
*Author प्रणय प्रभात*
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
The blue sky !
The blue sky !
Buddha Prakash
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
Shashi kala vyas
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आज की जेनरेशन
आज की जेनरेशन
ruby kumari
वक्त वक्त की बात है ,
वक्त वक्त की बात है ,
Yogendra Chaturwedi
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
Poonam Matia
कितना भी आवश्यक या जरूरी काम हो
कितना भी आवश्यक या जरूरी काम हो
शेखर सिंह
देह खड़ी है
देह खड़ी है
Dr. Sunita Singh
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Fantasies are common in this mystical world,
Fantasies are common in this mystical world,
Sukoon
इश्क़ के समंदर में
इश्क़ के समंदर में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां गोदी का आसन स्वर्ग सिंहासन💺
मां गोदी का आसन स्वर्ग सिंहासन💺
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रमेशराज के शिक्षाप्रद बालगीत
रमेशराज के शिक्षाप्रद बालगीत
कवि रमेशराज
राम से जी जोड़ दे
राम से जी जोड़ दे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सम्मति*
*सम्मति*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*हास्य-व्यंग्य*
*हास्य-व्यंग्य*
Ravi Prakash
राम
राम
Sanjay ' शून्य'
***
*** " पापा जी उन्हें भी कुछ समझाओ न...! " ***
VEDANTA PATEL
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
मेरे भी थे कुछ ख्वाब,न जाने कैसे टूट गये।
मेरे भी थे कुछ ख्वाब,न जाने कैसे टूट गये।
Surinder blackpen
Loading...