Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

बहुमूल्य है ज़िन्दगी के पल

सपने करना है तुझे पुरा
अतरंग मन को कर धार
छोड़ अपनी कल की ज़िन्दगी
तुम्हे जीना है वर्तमान पर

अपने ज्ञान दीप रोशनी से
खुद को कर तू प्रकाश
बहुमूल्य है ज़िन्दगी के पल
आज है वो न मिलेगा कल

पास सबकुछ,असंभव नहीं
कठीन जरूर है पथ
जोखिम लेना ही होगा
तभी होंगे सपने सच

कुछ कर दिखलाने की
क्यों ढूंढ़ते हो अवसर
झक मर के आएगी सफलता
तू लगन से मेहनत कर

मुसीबत भी घबरा जाएगी
साहस को बना ले औजार
कर अपने ईरादा अचल
तुझे उड़ना है आसमा पर

उम्मीद रख अपने अंदर
जरूर होगा ध्येय पूरा
तू लिख अपने नाम
हर शाम हर सवेरा

तुम्हे देख रहा होगा मंज़िल
न बैठ मान के हार
कदम- कदम में है मुश्किल
तुम्हे रहना होगा तैयार

Language: Hindi
202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar Patel
View all
You may also like:
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
*कुछ नहीं मेरा जगत में, और कुछ लाया नहीं【मुक्तक 】*
*कुछ नहीं मेरा जगत में, और कुछ लाया नहीं【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
उसने किरदार ठीक से नहीं निभाया अपना
उसने किरदार ठीक से नहीं निभाया अपना
कवि दीपक बवेजा
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
2471पूर्णिका
2471पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक रावण है अशिक्षा का
एक रावण है अशिक्षा का
Seema Verma
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
मैं तो महज जीवन हूँ
मैं तो महज जीवन हूँ
VINOD CHAUHAN
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
हमने भी ज़िंदगी को
हमने भी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
जमीन की भूख
जमीन की भूख
Rajesh Rajesh
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फकीरी
फकीरी
Sanjay ' शून्य'
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
ruby kumari
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
(वक्त)
(वक्त)
Sangeeta Beniwal
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
अब सुनता कौन है
अब सुनता कौन है
जगदीश लववंशी
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
Shashi kala vyas
विश्वास का धागा
विश्वास का धागा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नव संवत्सर
नव संवत्सर
Manu Vashistha
खामोशी ने मार दिया।
खामोशी ने मार दिया।
Anil chobisa
बातें की बहुत की तुझसे,
बातें की बहुत की तुझसे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"फ्रांस के हालात
*Author प्रणय प्रभात*
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
करगिल के वीर
करगिल के वीर
Shaily
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
manjula chauhan
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
Er. Sanjay Shrivastava
Loading...