Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

बहुमूल्य है ज़िन्दगी के पल

सपने करना है तुझे पुरा
अतरंग मन को कर धार
छोड़ अपनी कल की ज़िन्दगी
तुम्हे जीना है वर्तमान पर

अपने ज्ञान दीप रोशनी से
खुद को कर तू प्रकाश
बहुमूल्य है ज़िन्दगी के पल
आज है वो न मिलेगा कल

पास सबकुछ,असंभव नहीं
कठीन जरूर है पथ
जोखिम लेना ही होगा
तभी होंगे सपने सच

कुछ कर दिखलाने की
क्यों ढूंढ़ते हो अवसर
झक मर के आएगी सफलता
तू लगन से मेहनत कर

मुसीबत भी घबरा जाएगी
साहस को बना ले औजार
कर अपने ईरादा अचल
तुझे उड़ना है आसमा पर

उम्मीद रख अपने अंदर
जरूर होगा ध्येय पूरा
तू लिख अपने नाम
हर शाम हर सवेरा

तुम्हे देख रहा होगा मंज़िल
न बैठ मान के हार
कदम- कदम में है मुश्किल
तुम्हे रहना होगा तैयार

Language: Hindi
Tag: कविता
139 Views
You may also like:
घूँघट की आड़
VINOD KUMAR CHAUHAN
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
🌴🌺तुम्हारे चेहरे पर कमल खिला देखा मैंने🌺🌴
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
भावों उर्मियाँ ( कुंडलिया संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Colourful Balloons
Buddha Prakash
उम्मीद मुझको यही है तुमसे
gurudeenverma198
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
हालात-ए-दिल
लवकुश यादव "अज़ल"
माँ कालरात्रि
Vandana Namdev
गांधीजी के तीन बंदर
मनोज कर्ण
प्रेमिका.. मेरी प्रेयसी....
Sapna K S
नवगीत
Sushila Joshi
✍️"बा" ची व्यथा✍️।
'अशांत' शेखर
अब तो सूर्योदय है।
Varun Singh Gautam
पूर्व जन्म के सपने
RAKESH RAKESH
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
Dr Archana Gupta
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
हसरतें थीं...
Dr. Meenakshi Sharma
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
"अल्मोड़ा शहर"
Lohit Tamta
आजमाइशों में खुद को क्यों डालते हो।
Taj Mohammad
*कॉंवड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हर रोज में पढ़ता हूं
Sushil chauhan
जीवनामृत
Shyam Sundar Subramanian
#खुद से बातें...
Seema 'Tu hai na'
Loading...