Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

बहुमूल्य है ज़िन्दगी के पल

सपने करना है तुझे पुरा
अतरंग मन को कर धार
छोड़ अपनी कल की ज़िन्दगी
तुम्हे जीना है वर्तमान पर

अपने ज्ञान दीप रोशनी से
खुद को कर तू प्रकाश
बहुमूल्य है ज़िन्दगी के पल
आज है वो न मिलेगा कल

पास सबकुछ,असंभव नहीं
कठीन जरूर है पथ
जोखिम लेना ही होगा
तभी होंगे सपने सच

कुछ कर दिखलाने की
क्यों ढूंढ़ते हो अवसर
झक मर के आएगी सफलता
तू लगन से मेहनत कर

मुसीबत भी घबरा जाएगी
साहस को बना ले औजार
कर अपने ईरादा अचल
तुझे उड़ना है आसमा पर

उम्मीद रख अपने अंदर
जरूर होगा ध्येय पूरा
तू लिख अपने नाम
हर शाम हर सवेरा

तुम्हे देख रहा होगा मंज़िल
न बैठ मान के हार
कदम- कदम में है मुश्किल
तुम्हे रहना होगा तैयार

92 Views
You may also like:
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
देखो
Dr.Priya Soni Khare
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छोटी-छोटी चींटियांँ
Buddha Prakash
✍️मयखाने से गुज़र गया हूँ✍️
"अशांत" शेखर
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
पिता
Dr. Kishan Karigar
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
चार बूँदे...
"अशांत" शेखर
मेरी बेटी
Anamika Singh
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
कौन मरेगा बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
**किताब**
Dr. Alpa H. Amin
पिता
dks.lhp
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
तरबूज का हाल
श्री रमण
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
जिन्दगी खर्च हो रही है।
Taj Mohammad
✍️अहज़ान✍️
"अशांत" शेखर
Loading...