Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

बहुत सुन लिया

सुन लिया बहुत हमने इस ज़माने को,
अब वक्त मेरे कहने का आया है।
जो कुछ भी है मेरे मन के भीतर
वो दुनिया को बताने का समय आया है।

– श्रीयांश गुप्ता

1 Like · 174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अकेले
अकेले
Dr.Pratibha Prakash
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
इश्क चख लिया था गलती से
इश्क चख लिया था गलती से
हिमांशु Kulshrestha
2672.*पूर्णिका*
2672.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सोने की चिड़िया
सोने की चिड़िया
Bodhisatva kastooriya
है बात मेरे दिल की दिल तुम पे ही आया है।
है बात मेरे दिल की दिल तुम पे ही आया है।
सत्य कुमार प्रेमी
सावन आज फिर उमड़ आया है,
सावन आज फिर उमड़ आया है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*Broken Chords*
*Broken Chords*
Poonam Matia
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
कवि रमेशराज
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
Dr Tabassum Jahan
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
पश्चाताप का खजाना
पश्चाताप का खजाना
अशोक कुमार ढोरिया
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
**कुछ तो कहो**
**कुछ तो कहो**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
दीवाना हूँ प्रेम गीत गाता हूँ
दीवाना हूँ प्रेम गीत गाता हूँ
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कुछ पल जिंदगी के उनसे भी जुड़े है।
कुछ पल जिंदगी के उनसे भी जुड़े है।
Taj Mohammad
लौट चलें🙏🙏
लौट चलें🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"कला"
Dr. Kishan tandon kranti
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
Manoj Mahato
*गाजर-हलवा श्रेष्ठतम, मीठे का अभिप्राय (कुंडलिया)*
*गाजर-हलवा श्रेष्ठतम, मीठे का अभिप्राय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
बहादुर बेटियाँ
बहादुर बेटियाँ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
देखिए
देखिए "औरत चाहना" और "औरत को चाहना"
शेखर सिंह
संसाधन का दोहन
संसाधन का दोहन
Buddha Prakash
संतुलित रहें सदा जज्बात
संतुलित रहें सदा जज्बात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*आत्महत्या*
*आत्महत्या*
आकांक्षा राय
Loading...