Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

बहुत-सी प्रेम कहानियाँ

बहुत-सी प्रेम कहानियाँ
मर जाती हैं जातियों के तले दबकर,

जातियाँ हँसती हैं और
खिलखिला कर कहती हैं –
” लो मैंने तुम्हें मार दिया ”

और प्रेम अपनी आख़िरी साँस तक
एक फ़ीके जोश के साथ कहता है –
” जातियों ! एक दिन उठूँगा मैं
और दबा दूँगा तुम्हें गहरा, बहुत गहरा ”

प्रेम और जाति के इस अंतर्द्वंद्व में
दो प्रेमी भी होते हैं
जिनकी शादियाँ हो जाती हैं
अपनी-अपनी जातियों में।

89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3072.*पूर्णिका*
3072.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
💐प्रेम कौतुक-301💐
💐प्रेम कौतुक-301💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अधूरा ज्ञान
अधूरा ज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
Krishna Kumar ANANT
"सन्त रविदास जयन्ती" 24/02/2024 पर विशेष ...
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मित्रता तुम्हारी हमें ,
मित्रता तुम्हारी हमें ,
Yogendra Chaturwedi
**पी कर  मय महका कोरा मन***
**पी कर मय महका कोरा मन***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
Rj Anand Prajapati
असली पंडित नकली पंडित / MUSAFIR BAITHA
असली पंडित नकली पंडित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
रे ज़िन्दगी
रे ज़िन्दगी
Jitendra Chhonkar
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
DrLakshman Jha Parimal
श्री कृष्ण का चक्र चला
श्री कृष्ण का चक्र चला
Vishnu Prasad 'panchotiya'
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
मौत के डर से सहमी-सहमी
मौत के डर से सहमी-सहमी
VINOD CHAUHAN
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
दस्ताने
दस्ताने
Seema gupta,Alwar
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"लक्षण"
Dr. Kishan tandon kranti
डीजे
डीजे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आँखों   पर   ऐनक   चढ़ा   है, और  बुद्धि  कुंद  है।
आँखों पर ऐनक चढ़ा है, और बुद्धि कुंद है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
कोई...💔
कोई...💔
Srishty Bansal
मैं स्वयं को भूल गया हूं
मैं स्वयं को भूल गया हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*घर-घर में अब चाय है, दिनभर दिखती आम (कुंडलिया)*
*घर-घर में अब चाय है, दिनभर दिखती आम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...